बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsजब लोगों को डीलर्स पर आया गुस्‍सा, तो लग्‍जरी कारों को बना दि‍या कूड़ा गाड़ी

जब लोगों को डीलर्स पर आया गुस्‍सा, तो लग्‍जरी कारों को बना दि‍या कूड़ा गाड़ी

लोगों ने डीलर्स और सर्वि‍स को लेकर अपनी नाराजगी को जाहि‍र करने के लि‍ए कार को कूड़ा गाड़ी में बदल दि‍या।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। एक मामला काफी पॉपुलर हुआ था जब अल्‍वर के राजा जय सिंह 1920 में रॉल्‍स रॉयस खरीदने गए थे। उनके कपड़े सामान्‍य थे और वह रॉल्‍य रॉयस कस्‍टमर्स जैसे बि‍ल्‍कुल नहीं लग रहे थे। सेल्‍समैन ने उनहें बाहर जाने के लि‍ए कहा। जय सिंह ने मैनेजर को शोरूम में मौजूद सातों कारों को खरीदने के लि‍ए ऑर्डर दि‍या। जय सिंह ने यह भी कहा कि‍ वह इस सेल्‍समैन को भारत में डि‍लि‍वरी के लि‍ए भेजें। 

 

डि‍लि‍वरी के साथ वह सेल्‍समैन महाराजा के महल के सामने पहुंचा। जय सिंह ने प्रत्‍येक कार को नगरपालि‍का के पास भेज दि‍या और कहा कि‍ इन कारों से कचरा उठाने और सड़क की सफाई कराई जाए। 

 

राजा जय सिंह को देखते हुए कुछ और लोगों ने डीलर्स और कार की सर्वि‍स को लेकर अपनी नाराजगी को जाहि‍र करने के लि‍ए यही तरीका अपनाया। लोगों के मुताबि‍क, वह इस तरह के मामलों को नि‍पटाने के लि‍ए डीलर्स को शर्मिंदा करते हैं। 

 

आगे पढ़ें...

टोयोटा फॉर्च्‍यूनर को कूड़े से भरा 

 

पुणे में एक कारोबारी ने अपनी नई टोयोटा फॉर्च्‍यूनर को कूड़े से  भर दि‍या। डीलरशि‍प से मि‍ली सर्वि‍सेज से खफा हेमराज चौधरी ने इस साल मार्च में कार को खरीदा था। वह अपनी परेशानि‍यों को नि‍पटाने के लि‍ए कई बार डीलरशि‍प गए। चौधरी ने मीडि‍या रि‍पोर्ट में यह भी कहा कि‍ वह अपनी कार को कूड़ा उठाने वाले ट्रक के तौर पर पि‍प्‍प्री चिंचवाद नगरपालि‍का को दे देंगे। 

 

आगे पढ़ें...

कूड़ा उठाने के लि‍ए ग्राम पंचायत को दी कार 

 

ऐसे ही कोटा के एक कारोबारी राजेश परेता ने अपनी रेनो डस्‍टर को कूड़ा उठाने के लि‍ए मोदक ग्राम पंचायत को दे दी। रेनो की इस कार को उन्‍होंने 2012 में खरीदा था लेकिन इलेक्‍ट्रि‍कल और एयर कंडीशन प्रॉब्‍लम्‍स की वजह से वह 200 दि‍न से ज्‍यादा बेकार खड़ी रही। 

 

आगे पढ़ें...

गंधे से खिंचवाई जैगुआर

 

अहमदाबाद के एक कारोबारी ने अपनी नई कार को गंधों से खि‍ंचवाया। उनका दांवा था कि‍ वह कई बार अपनी जैगुआर XF को डीलरशि‍प पर लेकर जा चुके हैं। लेकि‍न एक परेशानी खत्‍म होने के बाद दूसरी परेशानी आ जाती है। उन्‍होंने कहा कि‍ मैं बार-बार डीलरशि‍प पर जाकर परेशान हो गया। डीलर को बताने के लि‍ए कि‍ मैं कार के साथ क्या कर सकता हूं तब मेरे दि‍माग में गधों से कार खि‍चवाने का आइडि‍या आया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट