बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsबस ये हेलमेट पास बाकी सब हुए फेल, पहना तो चालान पक्‍का

बस ये हेलमेट पास बाकी सब हुए फेल, पहना तो चालान पक्‍का

देश में बढ़ती सड़क दुर्घाटनाओं को रोकने के लि‍ए सरकार की ओर से एक और कदम उठाया गया है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। देश में बढ़ती सड़क दुर्घाटनाओं को रोकने के लि‍ए सरकार की ओर से एक और कदम उठाया गया है। सरकार जल्‍द ही देश भर में नॉन आईएसआई टू-व्‍हीलर हेलमेट्स के इस्‍तेमाल को खत्‍म करने वाली है। कुछ महीनों बाद अगर कोई नॉन-आईएएसआई हेलमेट बेचता है तो उस पर भारी जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं, इसे पहन कर चलाने वाले को भी जुर्माना देना होगा। इसका मतलब है कि‍ आप अपने मौजूदा नॉन-आईएसआई हेलमेट को तुरंत बदल लें। इंडस्‍ट्री का मानना है कि‍ यह टू-व्‍हीलर से जुड़ी सड़क दुर्घाटनाओं को कम करने की दिशा में उठाया गया सही कदम है।

 

इसका ऐलान रोड एंड ट्रांसपोर्ट मंत्री नीति‍न गडकरी और पेट्रोलि‍यम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा सुखद यात्रा मोबाइल ऐप और 1033 नेशनल हाईवे एमर्जेंसी हेल्‍पलाइन नंबर लॉन्‍च करने के दौरान कि‍या गया। ब्‍यूरो ऑफ इंडि‍यन स्‍टैंडर्ड (बीएसआई) ने कहा रोड सेफ्टी पर बने सुप्रीम कोर्ट पैनल को बताया कि‍ आईएसआई सर्टि‍फि‍केशन को अनि‍वार्य करने वाला कदम अब से 6 माह के भीतर लागू हो पाएगा।  

 

पहना तो चालान पक्‍का 

 

नॉन आईएसआई मार्क वाले हेलमेट इस्तेमाल करने वालों पर कानून का उल्लंघन करने के लिए जुर्माना देना होगा। बीआईएस के मानकों के मुताबि‍क, नॉन आईएसआई मार्क वाले हेलमेट अवैध हैं। बि‍ना आईएसआई मार्क वाले हेलमेट पहनकर बाइक चलाने या पीछे बैठे पैसेंजर ने उसे पहना तो चालान का नियम है। हाफ हेलमेट स्वीकार्य हैं, लेकि‍न उन पर आईएसआई का मार्क होना चाहि‍ए।

 

इंडस्‍ट्री का क्‍या है कहना

 

आईएसआई हेलमेट मैन्‍युफैक्‍चर एसोसि‍एशन के प्रेसि‍डेंट राजीव कपूर ने कहा कि‍ हमें अपने नीति‍ नि‍र्माताओं पर गर्व है क्‍योंकि‍ यह बेहद जरूरी है। मौजूदा आंकड़ों को देखें तो देश भर में 75 से 80 फीसदी से ज्‍यादा टू-व्‍हीलर चलाने वाले जि‍न हेलमेट्स को पहनते हैं वह आईएसआई स्‍टैंडर्ड को पूरा नहीं करते हैं। मार्केट में इस तरह के प्रोडक्‍ट्स की भरमार है। हमें खुशी है कि‍ अब सरकार ने सभी हेलमेट मैन्‍युफैक्‍चरर्स के लि‍ए बीआईएस से सर्टि‍फि‍केशन लेना अनि‍वार्य कर दि‍या है। इन हेलमेट्स से सड़क दुर्घाटनाएं कम होंगे। 

 

आगे पढ़ें...

 

आईएसआई अप्रूवड हेलमेट बनाने की लागत

 

इंडस्‍ट्री के मुताबि‍क, आईएसआई अप्रूवड हेलमेट के प्रोडक्‍शन की कम से कम लागत 300 रुपए से 400 रुपए पड़ती है। यहां इस तरह के हेलमेट्स के कई रेप्‍लि‍का (एक जैसा दि‍खने वाले) उपलब्‍ध हैं और वो भी 100 रुपए कीमत में। इस तरह के हेलमेट ट्रैफि‍क पुलि‍स द्वारा काटे जाने वाले चालान से बचने के लि‍ए खरीदे जाते हैं। हालांकि‍, क्रैश के दौरान यह कि‍सी तरह का प्रोटेक्‍शन नहीं देते।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट