बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsमोदी के इस फैसले पर अमेरि‍का-जर्मनी ने दी धमकी, कहा नतीजों के लि‍ए रहे तैयार

मोदी के इस फैसले पर अमेरि‍का-जर्मनी ने दी धमकी, कहा नतीजों के लि‍ए रहे तैयार

अमेरि‍का और जर्मनी ने भारत को चेतावनी दे डाली है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। एक ओर जहां मोदी सरकार ने बजट 2018-19 में मेक इन इंडि‍या को बढ़ावा देने के लि‍ए ऑटोमोबाइल पार्ट्स पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी को बढ़ाई है वहीं, इस फैसले की वजह से अमेरि‍का और जर्मनी ने भारत को चेतावनी दे डाली है। सरकार ने बजट 2018 में कम्‍पलि‍टली नॉक डाउन (CKD) और कम्‍पलि‍टली बि‍ल्‍ड यूनि‍ट (CBU) की इंपोर्ट ड्यूटी को 5 फीसदी बढ़ा दि‍या है। इस फैसले पर अमेरि‍का और जर्मनी दोनों ने संकेत दि‍ए हैं कि‍ भारत इसका नतीजा भुगतने के लि‍ए तैयार रहे। दोनों देशों ने अपने-अपने तरीके से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चेतावनी दी है। 

 

डोनाल्‍ड ट्रम्‍प ने दी धमकी

 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्‍ड ट्रम्‍प ने हार्ले डेविडसन बाइक पर हाई इम्‍पोर्ट ड्यूटी लगाने के भारत के फैसले पर नाराजगी जताई और इसे गलत बताया है। ट्रम्‍प ने भारत को भी धमकी दी कि अमेरिका भी अपने यहां इम्‍पोर्ट होने वाली भारतीय मोटरसाइकिलों पर इम्‍पोर्ट ड्यूटी बढ़ा देगा। ट्रम्‍प ने कांग्रेस सदस्यों के साथ स्टील इंडस्ट्री पर डिस्‍कशन के दौरान यह चेतावनी दी। हालांकि, भारत ने महंगे ब्रांड की विदेशी बाइक पर इम्‍पोर्ट ड्यूटी घटाकर 50 कर दिया है।

 

अमेरिका की तरह सिस्‍टम करे भारत

 

ट्रम्‍प ने कहा कि इम्‍पोर्ट ड्यूटी को 75 फीसदी से घटाकर 50 फीसदी करने का भारत सरकार का हाल का फैसला पर्याप्त नहीं है। ट्रम्‍प ने कहा कि इसे एक-दूसरे के अनुकूल होना चाहिए। यानी जिस तरह की अमेरिकी व्यवस्था है वैसा ही भारत को करना चाहिए। ट्रम्‍प का इशारा मोटरसाइकलों के इम्‍पोर्ट पर 'जीरो टैक्स' की तरफ था। 

 

आगे पढ़ें...

मोदी के साथ हुई बातचीत का कि‍या उल्‍लेख

 

ट्रम्‍प ने कहा कि‍ ऐसे कई देश हैं जहां हम प्रोडक्‍ट बनाते हैं, हम इन देशों में जाने के लि‍ए बेहद ज्‍यादा टैक्‍स का भुगतान करते हैं। मोटरसाइकि‍ल जैसे हार्ले डेवि‍डसन चुनिंदा देशों में है। मैं इस मामले को भारत पर नहीं लेकर जा रहा। इतना ही नहीं, ट्रम्‍प ने अप्रत्‍यक्ष तरीके से इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई हालि‍या बातचीत का उल्‍लेख कि‍या। एक महान व्यक्‍ति‍ ने भारत से मुझे कॉल कि‍या और उन्‍होंने कहा कि‍ हमने मोटरसाइकि‍ल्‍स पर टैरि‍फ को 75 फीसदी और शायद फीसदी से घटाकर 50 फीसदी कर दि‍या है। 

 

आगे पढ़ें...

 

जर्मनी ने भी दी चेतावनी

 

जर्मनी के राजदूत ने चेतावनी दी है कि बजट प्रपोजल भारत के लिए तब उलटा पड़ सकता है, जब यह देश इकोनॉमि‍क ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए एक्‍सपोर्ट पर अपनी योजना बना रहा है। भारत में जर्मनी के राजदूत मार्टिन नेय ने कहा कि‍ भारत को यूरोपीय संघ के साथ एक मुफ्त व्यापार समझौते पर बातचीत करनी होगी। भारत के पास पहले से ही यूरोपीय संघ के साथ लगभग 500 करोड़ डॉलर का ट्रेड सरपलस है। 

 

आगे पढ़ें...

 

 

जर्मनी का भारत में इन्‍वेस्‍टमेंट

 

जर्मन कंपनी ने भारत में साल 2000 से अब तक 970 करोड़ डॉलर का निवेश किया है। जिसमें डायरेक्‍ट और इनडायरेक्‍ट रूप से चार लाख नौकरियां और मेक इन इंडिया को प्रोत्साहित किया है। नेय ने कहा कि‍ भारत की ओर बढ़ाई गई ऑटो कम्पोनेंट्स पर कस्टम ड्यूटी मेरी समझ से बाहर है। अगर भारत चाहता है कि उसके जीडीपी में 8 फीसदी की ग्रोथ हो और एक्‍सपोर्ट में ग्रोथ करना चाहती है तो उसे भी आसान इंपोर्ट की मंजूरी देने की जरूरी है।

 

आगे पढ़ें...

 

जर्मनी की कंपनि‍यां भारत में बना रही हैं कारें

 

जर्मन की कार कंपनियों ने भारत में अपने प्‍लांट लगाए हैं। जैसे ऑडी अपनी ए3, ए4, ए6, क्यू 3, क्यू 5 और क्यू 7 मॉडलों को औरंगाबाद के प्‍लांट में बनाती है। फॉक्सवैगन ग्रुप अपनी पसात और टिगुआन, स्कोडा की ऑक्टेविया, सुपर्ब और कोडिएक मॉडल को भी यहीं बनाती है। बीएमडब्ल्यू ग्रुप अपनी 3,5,6 और 7 सीरीज के अलावा एक्स 1, एक्स 3 और एक्स 5 एसयूवी मॉडल को सीकेडी किट्स से चेन्‍नर्इ प्‍लांट में बनाती है। 

 

डेमलर की भी पुणे में पैसेंजर कार बनाने की फैक्ट्री है, जहां सी, सीएलए, ई और एस-क्लास के अलावा जीएलए, जीएलसी, जीएलई और जीएलएस एसयूवी मॉडल बनाती हैं। इसी इलाके में पुणे के पास चाकन में फॉक्सवैगन के प्‍लांट में एमियो और पोलो मॉडल और स्कोडा रैपिड को बनाया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट