विज्ञापन
Home » Auto » Review89 Percent School buses and vans are not safer for child student

89 फीसदी स्कूली बसों और वैन में सुरक्षित नहीं हैं बच्चे, सर्वे में खुलासा

रियर बेल्ट का इस्तेमाल न होने से हादसों में जा रहीं ज्यादा जान

89 Percent School buses and vans are not safer for child student

नई दिल्ली। देश में सभी यात्री वाहनों में पिछली सीट पर बैठने वालों के रियर सीट बेल्ट के उपयोग को अनिवार्य बनाए जाने के बावजूद करीब 89 फीसदी स्कूल बसों और वैन में बच्चों के लिए रियर सीट बेल्ट नहीं हैं।  यात्री वाहन बनाने वाली कंपनी निसान द्वारा सेव लाइफ फाउंडेशन के मिलकर तैयार किए गए एक सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार अभी देश में मात्र 11.2 प्रतिशत स्कूल बसों / वैन में बच्चों के लिए सीट बेल्ट हैं लेकिन जागरूकता के अभाव में उसका भी उपयोग  नहीं किया जा रहा है। 

 

जागरूकता की कमी के कारण नहीं हो रहा रियर बेल्ट का इस्तेमाल
राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा के मद्देनजर जारी इस रिपोर्ट में कहा कि रियर सीट-बेल्ट के उपयोग को अनिवार्य बनाने के कानून होने के बावजूद इसके लिए जागरूकता बहुत कम है जिसकी वजह से ये ज्यादा प्रभावी नहीं है। रियर सीट बेल्ट के उपयोग से दुर्घटना में बच्चों को चोट लगने की संभावना कम हो जाती है। रिपोर्ट में इस आंकड़े पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा गया है कि वर्ष 2015 में देश में स्कूल बसों के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण 422 बच्चों की मृत्यु हो गई थी और 1622 बच्चे घायल हो हुए थे। सर्वेक्षण में शामिल 91.4 प्रतिशत लोगों ने सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए एक सख्त सड़क सुरक्षा कानून बनाने की आवश्यकता बताई है। 

 

100 स्कूल बसों पर किया गया सर्वे
यह सर्वे लगभग 100 स्कूल बसों / वैन पर किया गया, जिनमें से 69 निजी स्कूल की बसें / वैन थीं। 18 बसें सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों की थीं और 13 सरकारी स्कूल वाहन थे। इसमें 11 शहरों में लगभग 330 स्कूली वाहन चालकों का भी सर्वेक्षण किया गया है। निसान इंडिया के अध्यक्ष थॉमस कुहेल का कहना है कि जहां एक ओर भारत में सड़क सुरक्षा के लिए कई पहलें की जा रही हैं, वहीं दूसरी ओर रियर सीट बेल्ट के इस्तेमाल की पूरी तरह से अनदेखी की जा रही है। उनकी कंपनी इस पहल के माध्यम से लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाना चाहती है। रियर सीट बेल्ट के इस्तेमाल के बारे में लोगों को जागरुक बनाने के उद्देश्य से यह पहल शुरू की गयी है। उन्होंने कहा कि सेव लाईफ फाउन्डेशन और शार्प के साथ रणनीतिक साझेदारी इसी दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। अभियान के पहले चरण में 12 शहरों के 240 स्कूलों में दो लाख से अधिक बच्चों तक पहुंचने की योजना बनाई गई है। इन बच्चों को रियर सीट बेल्ट के इस्तेमाल और सड़क सुरक्षा के बारे में जागरुक बनाया जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन