बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsमंझा हुआ ड्राइवर भी ठोक देता है गाड़ी, 10 फैक्‍टर्स करवाते हैं ऐसा

मंझा हुआ ड्राइवर भी ठोक देता है गाड़ी, 10 फैक्‍टर्स करवाते हैं ऐसा

हालात कि‍तने भी अच्‍छे क्‍यों न हों ड्राइविंग में रि‍स्‍क फैक्‍टर तो हमेशा शामि‍ल होता है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। हालात कि‍तने भी अच्‍छे क्‍यों न हों ड्राइविंग में रि‍स्‍क फैक्‍टर तो हमेशा शामि‍ल होता है। कुछ ऐसी कंडीशन होती हैं, जि‍नकी वजह से एक मंझा हुआ ड्राइवर भी एक्‍सीडेंट कर बैठता है। इस तरह के हालात पर डिटेल्‍ड स्‍टडी करने के बाद न्‍यूयॉर्क स्‍टेट डि‍पार्टमेंट के डि‍पार्टमेंट ऑफ मोटर व्‍हीकल्‍स ने वाहन चालकों के लि‍ए खास एडवाइजरी जारी की है। इन पर गौर करने और दि‍माग में रखने से एक्‍सीडेंट होने की संभावना कम हो जाती है। 


एडवाइजरी के मुताबि‍क, वो वो सभी ड्राइवर रि‍स्‍क जोन में आ जाते हैं 
1. जो ठीक से सो नहीं पाए अथवा थके हुए हैं। 

2 बि‍ना ब्रेक लि‍ए लॉन्‍ग ड्राइव कर रहे हैं। 
3 ऐसे टाइम पर ड्राइव कर रहे हैं, जि‍स टाइम पर आप आमतौर पर सोते हैं। 
4 जि‍न्‍होंने कोई ऐसी दवा ली है जि‍ससे नींद बढ़ती है या शराब पी हुई है। 
5 जो अकेले ड्राइव कर रहे हैं। 
6 जो ऐसी सड़कों पर ड्राइव कर रहे हैं जहां ट्रैफि‍क बहुत कम है। 
7 जो लगातार आते जाते रहते हैं जैसे बि‍जनेस ट्रैवलर्स, ऐसे लोग ओवर कॉन्‍फि‍डेंस का शि‍कार हो जाते हैं। 
8 युवा - डि‍पार्टमेंट के मुताबि‍क, नींद से जुड़ी दुर्घटनाओं के केस सबसे ज्‍यादा युवाओं के साथ होते हैं जो देर तक जागते हैं, बहुत कम सोते हैं और देर रात को ड्राइव करते हैं। 
9 शि‍फ्ट वर्कर - ऐसे लोग जि‍नके कामकाज का तय शेड्यूल नहीं है वह थकान से जुड़ी सड़का दुर्घटनाओं के रि‍स्‍क में ज्‍यादा आते हैं। 
10 स्‍लीप डिस्‍ऑर्डर - जि‍न लोगों को नींद से जुड़ी कोई बीमारी या परेशानी होती है उनका एक्‍सीडेंट कर बैठने का खतरा ज्‍यादा होता है। 
डि‍पार्टमेंट ऑफ मोटर व्‍हीकल्‍स ने लोगों को हिदायत दी है कि‍ अगर आप इनमें से कि‍सी कंडीशन में ड्राइव कर रहे हैं तो आपको ज्‍यादा सचेत रहने की जरूरत है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट