विज्ञापन
Home » Auto » Industry/ TrendsGovt proposal for e cess

महंगे हो जाएंगे मोटरसाइकिल और स्कूटर, सरकार ग्रीन सेस लगाने की तैयारी में

सेफ्टी नॉर्म्स बीएस-6 और एबीएस के चलते और भी बढ़ेंगी कीमतें

1 of

नई दिल्ली. ग्राहकों के लिए टू-व्हीलर मोटरसाइकिल और स्कूटर खरीदना महंगा हो सकता है, क्योंकि सरकार जल्द पेट्रोल से चलने वाले टू-व्हीलर पर ग्रीन सेस लगाने के तैयारी में है। इस मामले में एक प्रस्ताव लाया जाएगा, जिसमें पेट्रोल से चलने वाली बाइक और स्कूटर पर 800 से 1000 रुपए तक सेस लगाने का प्रावधान होगा। वित्त मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक सरकार सेस से हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक कार पर सब्सिडी देने के लिए 5500 करोड़ रुपए का फंड इकट्ठा करने की योजना बना रही है। 

सेफ्टी नॉर्म्स की वजह से कीमतों में होगी बढ़ोत्तरी

ग्रीन सेस के अलावा सेफ्टी नॉर्म्स जैसे एबीएस और बीएस-6 लागू किए जाने से आने वाले दिनों में मोटरसाइकिल और स्कूटर के दाम में और इजाफा हो सकता है। मार्केट एक्सपर्ट के मुताबिक कीमतों में बढ़ोत्तरी की वजह से टू-व्हीलर की सेल्स ग्रोथ पर असर पड़ सकता है। बता दें कि पिछले साल 2018 में टू-व्हील की ग्रोथ रेट 12.8 फीसदी रही थी। 

 

 

ग्रीन सेस लगाने की क्या है वजह 

सरकार टू-व्हीलर से वसूले जाने वाले सेस के पैसों का इस्तेमाल इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर पर सब्सिडी के तौर पर खर्च करेगी। इससे इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदने को बढ़ावा मिलेगा। सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल और पेट्रोल पॉवर्ड व्हीकल के बीच कीमतों के अंतर को कम करना चाहती है, जो कि अभी 55 से 60 हजार रुपए है। सरकार को उम्मीद है कि ऐसा करके अगले 2 से 3 साल में 1 मिलियन इलेक्ट्रिक व्हीकल को सड़क पर उतारा जा सकेगा। इस तरह न सिर्फ बढ़ने प्रदूषण के स्तर को सुधारने में मदद मिलेगी, बल्कि क्रूड ऑयल के आयात में कमी आएगी। 

 

 

टू-व्हीलर पर जीएसटी दर में कटौती की मांग

सरकार की ओर से टू-व्हीलर पर ग्रीन सेस लगाने का प्रस्ताव ऐसे वक्त में आया गया है, जब Hero MotoCorp के चेयरेमैन पवन मंजुल समेत टीवीए और अन्य उद्योगपति टू-व्हीलर पर लगाए जाने वाली जीएसटी की दरों में कटौती की मांग कर रहे हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन