विज्ञापन
Home » Do You Know » Gold Silver » Triviawhat is Palladium and why it is so costly

जानिए, क्या होता है पैलेडियम और क्यों होता है ये इतना महंगा

पैलेडियम एक कैमिकल एलिमेंट है। इसकी खोज 1803 में विलियम हाइड वोलेस्टन (William Hyde Wollaston) द्वारा की गई थी।

1 of

पैलेडियम की कीमतें मंगलवार 15 जुलाई 2014 को 0.20 फीसदी की उछाल के साथ 13 साल के उच्चतम स्तर (872.90 डॉलर प्रति औंस) पर पहुंच गई हैं। दक्षिण अफ्रीकी खनिकों ने पांच महीनों से खानों में उत्पादन को रोका हुआ है, जिसके कारण मांग के मुकाबले सप्लाई घट गई है। जून में हड़ताल खत्म हुई है, लेकिन जानकारों के मुताबिक उत्पादन समान्य होने में कई महीने लग सकते हैं और आगे भी तेजी जारी रहने की उम्मीद है।

क्या है पैलेडियम

पैलेडियम एक कैमिकल एलिमेंट है। इसकी खोज 1803 में विलियम हाइड वोलेस्टन (William Hyde Wollaston) द्वारा की गई थी। यह सिल्वर की तरह सफेद एक सॉफ्ट मेटल है, जो प्लैटिनम के समान होता है।
 
सोने, चांदी और प्लैटिनम जैसा मेटल

पैलेडियम बुलियन को XPD और 964 के ISO करंसी कोड दिए गए हैं। आपको बता दें कि पैलेडियम चौथा ऐसा मेटल है, जिसे यह कोड मिला है। इसके अलावा सोना, चांदी और प्लैटिनम को यह कोड दिया गया है।
 
क्या है कीमत (प्रति औंस) (17 जुलाई 2014 के अनुसार)
 
पैलेडियम- 875 डॉलर (52644 रुपए)
गोल्ड-1300 डॉलर (78215 रुपए)
सिल्वर- 20 डॉलर (1203 रुपए)
प्लैटिनम- 1487 डॉलर (89466 रुपए)
 

आगे की स्लाइड्स में जानें किस काम आता है पैलेडियम-
 
 
 


एग्जॉस्ट फिल्टर बनाने में होता है इस्तेमाल

पैलेडियम और प्लैटिनम का इस्तेमाल मुख्य रुप से गाड़ी के एग्जॉस्ट फिल्टर बनाने में काम आता है। दक्षिण अफ्रीका दुनिया का सबसे बड़ा प्लैटिनम उत्पादन देश है वहीं पैलेडियम के मामले में दुसरे स्थान पर आता है।

ज्वैलरी उद्योग में है खास भूमिका

पैलेडियम का इस्तेमाल 1939 से ही ज्वैलरी उद्योग में भी काफी अधिक किया जाता है। इसका इस्तेमाल सफेद सोना बनाने के लिए प्लेटिनम के विकल्प के तौर पर किया जाता है। प्लैटिनम के विकल्प के तौर पर इसका इस्तेमाल होने का एक कारण इसका प्राकृतिक सफेद रंग है, जिसके कारण इस पर रोडियम की प्लेटिंग की आवश्यकता नहीं होती है। 
 

घड़ी, ब्लड सुगर टेस्ट स्ट्रिप, स्पार्क प्लग में भी होता है इस्तेमाल

इसके अलावा, पैलेडियम का इस्तेमाल घड़ी बनाने, ब्लड सुगर टेस्ट करने की स्ट्रिप बनाने, एयरक्राफ्ट के स्पार्क प्लग बनाने, कुछ सर्जिकल इंस्ट्रुमेंट बनाने और साथ ही इलेक्ट्रिकल कॉन्टैक्ट्स बनाने में होता है। पैलेडियम का घनत्व प्लैटिनम से काफी कम होता है। सोने की तरह ही पैलेडियम को भी पीट-पीट कर 100nm तक पतला किया जा सकता है।

रूस में होता है सबसे अधिक पैलेडियम का उत्पादन

2007 में रूस 44 प्रतिशत के साथ दुनिया का सबसे अधिक पैलेडियम का उत्पादन करने वाला देश था। इसके बाद दूसरे नंबर पर 40 प्रतिशत पैलेडियम के उत्पादन के साथ दक्षिण अफ्रीका का नंबर आता है। वहीं दूसरी ओर, कनाडा 6 प्रतिशत और अमेरिका 5 प्रतिशत पैलेडियम का उत्पादन करते हैं। 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन