Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

ईस्टर्न पेरिफेरल, दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे फेज- 1 का रविवार को मोदी करेंगे उद्घाटन, 11,800 करोड़ है लागत DFC का पहला हिस्सा 15 अगस्त को खुलेगा, तीन गुना तेज चलेंगी मालगाड़ी कॉरपोरेशन बैंक को Q4 में 1,838 करोड़ का घाटा पेट्रोलियम पदार्थों को GST में लाने पर कीमत में ज्यादा अंतर नहीं : सुशील मोदी देश में कमिटमेंट वाली सरकार, ब्‍लैकमनी पर फैसले से लोगों में आई बेचैनी : पीएम मोदी ऐंजल इन्‍वेटर को मिलेगी स्‍टार्ट अप में निवेश पर टैक्‍स छूट, नोटिफिकेशन जारी वेदांता के विरोध में लेबर पार्टी, लंदन स्‍टॉक एक्‍सचेंज से डीलिस्‍टेड करने की मांग जेटली: 4 साल में नोटबंदी,जीएसटी से ब्लैकमनी पर लगी रोक, 3.3% पर लाएंगे फिस्कल डेफिसिट मोदी के 4 साल : अमित शाह ने कहा गरीबों और उद्योगों को समर्पित है सरकार, गिनाईं उपलब्धियां 38 के पेट्रोल पर 40 रु टैक्स वसूलती हैं केंद्र,राज्य सरकारें, GST लगने पर घट जाएंगी कीमत ई-फाइलिंग के लिए सभी 7 ITR फॉर्म जारी, टैक्स भरना होगा आसान मोदी के वादों का 4 साल में हुआ ये हाल, आप खुद तय करें कि अच्‍छे दिन आए या नहीं Petrol Price: पेट्रोल 14 पैसे और डीजल 15 पैसे हुआ महंगा, लगातार 13वें दिन बढ़ी कीमतें 1400 रु की EMI पर आ जाएगा 32 इंच का LED टीवी, घर बैठे खरीदें फाइनेंशियल ईयर 2018 के लिए PF पर मिलेगा 8.55% ब्याज, 5 साल में सबसे कम
बिज़नेस न्यूज़ » Do You Know » Deficit » FAQक्या होता है राजस्व घाटा, वित्तीय घाटा, प्राथमिक घाटा और ढांचागत घाटा

क्या होता है राजस्व घाटा, वित्तीय घाटा, प्राथमिक घाटा और ढांचागत घाटा

क्या होता है राजस्व घाटा, वित्तीय घाटा, प्राथमिक घाटा और ढांचागत घाटा
राजस्व घाटा (रेवेन्यू डेफिशिट)
राजस्व घाटे का मतलब सरकार की अनुमानित राजस्व प्राप्ति और व्यय में अंतर होता है। किसी वित्त वर्ष के लिए सरकार राजस्व प्राप्ति और अपने खर्च का एक अनुमान लगाती है। लेकिन जब उसका व्यय उसके अनुमान से बढ़ जाता है, तो इसे राजस्व घाटा कहा जाता है।
 
इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है। मसलन सरकार ने अनुमान लगाया कि इस वित्त वर्ष में करों और दूसरे माध्यमों से उसकी कुल राजस्व प्राप्ति 110 रुपए रहेगी और इस दौरान सरकार का खर्च 80 रुपए रहेगा। इस तरह से अनुमान के मुताबिक सरकार को 30 रुपए शुद्ध राजस्व प्राप्त होगा। लेकिन यदि उस वित्त वर्ष के दौरान सरकार की कुल राजस्व प्राप्ति 100 रुपए रही और उसका खर्च 75 रुपए रहा, तो इस स्थिति में शुद्ध राजस्व 25 रुपए रहेगा, जो अनुमान से पांच रुपए कम है। पांच रुपए की यह कमी ही राजस्व घाटा कहलाएगी।
 
अगर सरकार की राजस्व प्राप्ति अनुमान के मुकाबले बढ़ जाती है, तो उसे रेवेन्यू सरप्लस कहा जाता है। सरकार कई सारी योजनाएं चलाती रहती है, जिनमें काफी धन खर्च होता है, इसके कारण राजस्व घाटा बढ़ता है। इसके साथ ही कर और दूसरे माध्यमों से सरकार को प्राप्त होने वाले राजस्व में कमी होने से भी राजस्व घाटा बढ़ जाता है। अगर राजस्व घाटा एक हद से आगे बढ़ जाता है, तो वह सरकार के लिए चिंता का कारण बन जाता है।
 
वित्तीय घाटा (फिस्कल डेफिशिट)
वित्तीय घाटा बताता है कि किसी वित्त वर्ष के दौरान सरकार की कुल आमदनी (उधार को छोड़ कर) और कुल खर्च का अंतर कितना है। वित्तीय घाटे के बढ़ने का मतलब है कि सरकार की उधारी बढ़ेगी। यहां ये भी समझना जरूरी है कि अगर उधारी बढ़ेगी तो ब्याज की अदायगी भी बढ़ेगी। ब्याज का बोझ बढ़ने से सरकार के राजस्व घाटे पर नकारात्मक असर पड़ेगा। और एक तरह से सरकार कर्ज के जाल में फंसती जाएगी। वित्तीय घाटे के बढ़ने के एक मतलब ये है कि सरकार को ज्यादा उधार की जरूरत होगी, जिसकी वजह से ब्याज दरें भी बढ़ सकती हैं। वित्तीय घाटे की भरपाई के लिए सरकार आरबीआई से उधार लेती है जिसकी वजह से आरबीआई को ज्यादा करेंसी नोट छापने पड़ सकते हैं और ये महंगाई को बढ़ा सकता है। वित्तीय घाटे में बढ़ोत्तरी विकास दर पर नकारात्मक असर डालती है और निवेश के माहौल को खराब करती है।      

प्राथमिक घाटा (प्राइमरी डिफिशिट)
देश के वित्तीय घाटे और ब्याज की अदायगी के अंतर को प्राथमिक घाटा कहते हैं। प्राथमिक घाटे के आंकड़े से इस बात का पता चलता है कि किसी भी सरकार के लिए ब्याज अदायगी कितनी बड़ी या छोटी समस्या है। भारत में ब्याज की अदायगी एक बड़ा खर्च है। भारत में 100 रुपए में से 18 रूपए सरकार के उधार पर ब्याज की अदायगी में जाते हैं।     
 
ढांचागत घाटा (स्ट्रक्चरल डेफिशिट)
सरकारी घाटा को हम दो तरह से समझ सकते हैं, एक ढांचागत और दूसरा चक्रीय। कारोबार का पहिया जब निचले बिंदु पर होता है तब बेरोजगारी अपने चरम सीमा पर होती है। इसका सीधा मतलब यह है कि कर राजस्‍व न्‍यूनतम स्‍तर पर है और खर्च उच्‍च स्‍तर पर। इसके विपरीत, कारोबार का पहिया जब उच्‍च बिंदु पर होता है तो बेरोजगारी निम्‍न स्‍तर पर होती है, कर राजस्‍व बढ़ता है और सामाजिक सुरक्षा खर्च में कमी आती है। 
कारोबारी पहिये के निम्‍न बिंदु पर अतिरिक्‍त उधारी की आवश्‍यकता को चक्रीय घाटा कहा जा सकता है। इस घाटे की भरपाई जब उच्‍च बिंदु पर हमारे पास अतिरिक्‍त राजस्‍व होता है, उसके जरिये की जाती है। ढांचागत घाटा वह घाटा है, जो पूरी तरह से कारोबारी पहिये से बाहर है। यह घाटा कर राजस्‍व की प्राप्‍ति और सरकारी खर्च के बीच अंतर आने से पैदा होता है। कुल बजट घाटे की गणना ढांचागत घाटे को चक्रीय घाटे या सरप्‍लस के साथ जोड़कर की जाती है।  
 

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.