Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »News Room »Corporate» Inflation Has Eaten Up The Savings

    बचत को खा गई महंगाई

    बचत को खा गई महंगाई

    बचत को खा गई महंगाई

    <> राष्ट्रीय बचत की दर जीडीपी का 30%  या उससे भी कम रह सकती है चालू वित्त वर्ष में
    <> 30.8%(जीडीपी का) रही थी नेशनल सेविंग्स रेट गत वित्त वर्ष (2011-12) में
    <> 36.9% तक पहुंच गई थी घरेलू बचत की दर वित्त वर्ष 2007-08 में
    <> 33.8%रही वित्त वर्ष 2009-10 में
    <> जीडीपी के 5.3% तक पहुंच चुके चालू खाते के घाटे (सीएडी) में बचत दर घटने से और उछाल आएगा
    <> 4.7 %रही है प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी वित्त वर्ष 2011-12 के दौरान वास्तविक कीमतों पर, उससे पिछले वर्ष में यह 7.2% थी।
    <> 13.7%की बढ़ोतरी प्रतिव्यक्ति आय में रही 2011-12 में मौजूदा कीमतों के आधार पर 2010-11 के मुकाबले

    सेक्टर्स की वृद्धि दर (चालू वित्त वर्ष में)
    मैन्यूफैक्चरिंग: पहली छमाही की 0.5% के मुकाबले दूसरी छमाही में 3.1%
    कंस्ट्रक्शन, फाइनेंस, इंश्योरेंस, रियल्टी: पहली छमाही की 8.8 से घटकर 3.3%
    बिजनेससर्विसेज : पहली छमाही की 10.1% से घटकर दूसरी छमाही में 7.3%

    जीडीपी
    5-6 % रह सकती है चालू वित्त वर्ष में रफ्तार
    4 % वृद्धि दर रही थी वित्त वर्ष2002-03 में
    9.6 %विकास दर थी 2006-07 में
    9.3 %रही थी वित्त वर्ष 2009-10 में

     

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY