Advertisement
Home » इंडस्ट्री » स्टार्टअपA software company where the employee is owner

एक ऐसी साॅफ्टवेयर कंपनी, जहां कर्मचारी हैं मालिक

इस स्टार्टअप के कर्मचारी खुद चुनते हैं अपने अधिकारी

A software company where the employee is owner

नई दिल्ली. क्या आप ऐसी कंपनी के होने का भरोसा करेंगे, जिसके कर्मचारी ही उसके मालिक हों, शायद नहीं। लेकिन बेंगलुरू की को-आॅपेरेटिव कंपनी निलेन्सो कुछ ऐसी ही कंपनी है। जहां कंपनी के कर्मचारी मालिक की तरह पेश आते हैं। यह एक स्टार्टअप है, हालांकि भारत में यह एक अनोखा व नया विचार है। यह एक सेंट्रीकुलर कंपनी है, जिसका इंटरनल सेटअप ही कुछ इस तरह से तैयार किया गया है जो काॅर्पोरेट कंपनी के माॅडल से अलग है।

 

यहां सभी कर्मचारी हैं बराबर  
2013 में स्थापित बेंगलुरू स्थित सॉफ्टवेयर कंपनी निलेन्सो की फाउंडर मेंबर दीपा वेंकटरमन ने कहा कि यहां सभी निर्णय सामूहिक रूप से लिए जाते हैं। यानी कि कंपनी के मालिक और कर्मचारी में काेई भेदभाव नहीं है। यहां सभी मालिक है।

 

कुछ ऐसा है कंपनी का रुटीन 

यहां रोजाना का रुटीन बिल्कुल अनोखा है। यहां एक प्रोजेक्ट पर इंडिविजुअल या साथ में काम किया जाता है। यह वहां के कर्मचारी पर निर्भर करता है कि उन्हें प्रोजेक्ट को कैसे पूरा करना है। साथ ही कभी भी अपना काम बंद करके अपने परिवार और दोस्तों के साथ वक्त बिता सकते हैं।

Advertisement

 

कर्मचारी करते हैं अधिकारियों का चुनाव

यहां सभी निलेन्सो के सदस्य सालाना दो अधिकारियों का चुनाव करते हैं जो प्रोजेक्ट पर निर्णय लेने का काम करते हैं। कर्मचारियों की तरह और बाहरी हितधारकों के साथ बातचीत करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

 

यहां ऐसे होता है काम 

हर सुबह निरुहिक चौहान अपने कार्यालय जाते हैं जहां वे बेंगलुरू स्थित अपने कार्यालय में जाते हैं। यहां वे अपने छह अन्य सदस्यों से जुड़ते हैं जो यूके, ग्रीस, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया बेस्ड होते हैं और अपने वर्तमान प्रोजेक्ट पर काम शुरू करता है। चौहान सॉफ्टवेयर कंसल्टैंसी सेंट्रिकुलर, फ्लैट हाइरार्की, खुद के स्टार्ट-अप पर काम करते हैं। 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement