पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60775.37-0.79 %
  • NIFTY18152.05-0.63 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47363-0.05 %
  • SILVER(MCX 1 KG)642760.82 %

मोबाइल हैंडसेट एक्सपोर्ट 2018-19 में 8 गुना बढ़ा, पहली बार इंपोर्ट से ज्यादा एक्सपोर्ट

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिंबॉलिक इमेज। - Money Bhaskar
सिंबॉलिक इमेज।
  • 11200 करोड़ रुपए की वैल्यू के हैंडसेट एक्सपोर्ट हुए, इंपोर्ट सिर्फ 10000 करोड़ का
  • 2018-19 में इंपोर्ट घटकर 6% रह गया, 2014-15 में इसकी दर 80% थी

नई दिल्ली. बीते वित्त वर्ष (2018-19) में देश का मोबाइल फोन एक्सपोर्ट 8 गुना बढ़कर 11,200 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। पहली बार ऐसा हुआ कि मोबाइल हैंडसेट के इंपोर्ट (10,000 करोड़ रुपए) से ज्यादा एक्सपोर्ट हुआ। इंडियन सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन (आईसीईए) ने बुधवार को ये जानकारी दी। आईसीईए के चेयरमैन पंकज मोहिंद्रू ने इसे बड़ी उपलब्धि बताया।

1) सरकार का लक्ष्य : 2025 तक 100 करोड़ हैंडसेट का निर्माण

मोहिंद्रू का कहना है कि सालाना आधार पर एक्सपोर्ट में 800% ग्रोथ बेहतर भविष्य के लिए जबरदस्त शुरुआत है। 2014-15 में मोबाइल हैंडसेट का 80% इंपोर्ट होता था। 2018-19 में यह घटकर 6% रह गया। इससे स्पष्ट है कि हम नेट जीरो इंपोर्ट के लक्ष्य की ओर उम्मीद से तेज गति से बढ़ रहे हैं।

सरकार ने डिजिटल इंडिया के तहत 2020 तक इलेक्ट्रॉनिक्स में इंपोर्ट को पूरी तरह खत्म करने का लक्ष्य तय किया था। वहीं नेशनल पॉलिसी ऑन इलेक्ट्रॉनिक्स 2019 के तहत 2025 तक 13 लाख करोड़ रुपए की वैल्यू के 100 करोड़ मोबाइल हैंडसेट बनाने का लक्ष्य है। इनमें से 7 लाख करोड़ की वैल्यू के 60 करोड़ हैंडसेट एक्सपोर्ट किए जाएंगे।

आईसीईए के मुताबिक 2018-19 में देश में 29 करोड़ मोबाइल हैंडसेट की मैन्युफैक्चरिंग हुई। इनकी वैल्यू 1.81 लाख करोड़ रुपए थी। 2014-15 में 18,900 करोड़ रुपए की वैल्यू के 5.8 करोड़ हैंडसेट बने थे।

अप्रैल से जुलाई तक 7,000 करोड़ रुपए की वैल्यू के हैंडसेट एक्सपोर्ट किए गए। इस हिसाब से चालू वित्त वर्ष (2019-20) के आखिर तक एक्सपोर्ट का आंकड़ा 25,000 करोड़ रुपए पहुंचने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं...