• Home
  • india china ; china ; seema vivad ; boycott china ; mi, zomato, alibaba ; china India's major stake in 18 of 30 unicorns in India, also invested in startups like Swiggy and Jomato

भारत-चीन विवाद में स्टार्टअप्स /7600 करोड़ रु. या उससे ज्यादा वैल्यू वाले भारत के 30 में से 18 स्टार्टअप में चीन की हिस्सेदारी; बायजूस, ओला, पेटीएम और जोमैटो में बड़ा निवेश

  • भारत के स्मार्टफोन बाजार में चीनी कंपनियों की 70% से ज्यादा हिस्सेदारी हो चुकी है
  • 2014 से 2019 के बीच चीन ने भारतीय स्टार्टअप्स में 5.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया

मनी भास्कर

Jun 18,2020 07:50:17 AM IST

नई दिल्ली. लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच सरहदी विवाद अब तक के सबसे खराब हाल में है। दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने है। वहीं, पिछले पांच-छह सालों में चीन के भारतीय कंपनियों में पैसा लगाने की रफ्तार लगातार बढ़ती रही है। इससे भारतीय बाजार में उसकी पकड़ कहीं ज्यादा मजबूत होने के आसार हैं।

तनाव बढ़ने से दोनों देशों को नुकसान होगा, लेकिन भारत पर अधिक असर पड़ सकता है। चीन की कई बड़ी कंपनियों ने भारत में निवेश बढ़ाया है। भारत की 30 में से 18 यूनिकॉर्न, यानी एक अरब डॉलर (करीब 7600 करोड़ रुपए) या उससे अधिक वैल्यूएशन वाली कंपनी में चीन की बड़ी हिस्सेदारी है।

पिछले 7 साल के दौरान सबसे ज्यादा 1666 मिलियन डॉलर का निवेश 2017 में हुआ

रिपोर्ट के मुताबिक चीन की कंपनियों ने 2014 में भारत की कंपनियों में 51 मिलियन डॉलर निवेश किया था। यह 2019 में बढ़कर 1230 मिलियन डॉलर हो गया यानी 2014 से 2019 के बीच चीन ने भारतीय स्टार्टअप्स में कुल 5.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया है। चीन की जिन कपंनियों ने भारत में निवेश किया उनमें अलीबाबा, टेंशेट और टीआर कैपिटल सहित कई दिग्गज कंपनियां शामिल हैं।

भारत की 30 यूनिकॉर्न में से 18 में चीन की हिस्सेदारी
मुंबई के विदेशी मामलों के थिंक टैंक 'गेटवे हाउस' ने भारत में ऐसी 75 कंपनियों की पहचान की है जो ई-कॉमर्स, फिनटेक, मीडिया/सोशल मीडिया, एग्रीगेशन सर्विस और लॉजिस्टिक्स जैसी सेवाओं में हैं और उनमें चीन का निवेश है। हाल ही में आई रिपोर्ट के अनुसार भारत की 30 में से 18 यूनिकॉर्न में चीन की बड़ी हिस्सेदारी है। यूनिकॉर्न एक निजी स्टार्टअप कंपनी को कहते हैं जिसकी वैल्यूएशन एक अरब डॉलर या उससे अधिक होती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि तकनीकी क्षेत्र में ज्यादा निवेश के कारण चीन ने भारत पर अपना कब्जा जमा लिया है।


सिटियस टेक स्टार्टअप में चीन का सबसे ज्यादा 880 मिलियन डॉलर का निवेश


चर्चित भारतीय स्टार्टअप्स में चीनी कंपनियों का निवेश

स्मार्टफोन बाजार में 70% से ज्यादा हिस्सेदारी
चीन की स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियों ने भारतीय बाजार पर पकड़ बना ली है। भारत में स्मार्टफोन का बाजार करीब 2 लाख करोड़ रुपए का है। चाइनीज ब्रैंड जैसे ओप्पो, श्याओमी और रेडमी ने 70% से ज्यादा मोबाइल मार्केट पर कब्जा कर लिया है। इसी तरह 25 हजार करोड़ के टेलीविजन मार्केट में चाइनीज ब्रैंड का 45% तक कब्जा है।

भारत-चीन सीमा विवाद पर आप ये भी खबरें पढ़ सकते हैं...
1. सीमा विवाद: चीन के कमांडिंग ऑफिसर समेत 40 सैनिक मारे गए; 24 घंटे में चीन का दूसरा बयान, कहा- गालवन वैली हमेशा से हमारी रही है
2. चीन के साथ विवाद की पूरी कहानी: 58 साल में चौथी बार एलएसी पर भारतीय जवान शहीद हुए, 70 साल में बतौर पीएम मोदी सबसे ज्यादा 5 बार चीन गए
3. गालवन के 20 शहीदों के नाम: हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 सैनिक 6 अलग-अलग रेजिमेंट के, सबसे ज्यादा 13 शहीद बिहार रेजिमेंट के

4. शहीद बताया जवान जिंदा निकला: भारतीय जवान की कल शहादत की खबर मिली थी, उसने आज खुद पत्नी को फोन कर बताया- जिंदा हूं
5. भारत-चीन झड़प की आंखों देखी: दोपहर 4 बजे से रात 12 बजे तक एक-दूसरे का पीछा कर हमला करते रहे; भारत के 17 सैनिक नदी में गिरे

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.