पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52574.460.44 %
  • NIFTY15746.50.4 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47005-0.25 %
  • SILVER(MCX 1 KG)67877-1.16 %
  • Business News
  • National
  • Aaj Ka Itihas 4th April Update | Bill Gates And Paul Allen Founded Microsoft | Zulfikar Ali Bhutto Executed

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इतिहास में आज:1975 में बिल गेट्स और पॉल एलन ने माइक्रोसॉफ्ट बनाई, आज एक अरब डिवाइस को चला रहा है विंडोज-10

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आज माइक्रोसॉफ्ट और उसके फाउंडर बिल गेट्स को कौन नहीं जानता? दुनिया के एक अरब डिवाइस विंडोज-10 पर चल रहे हैं, जो माइक्रोसॉफ्ट की लेटेस्ट पेशकशों में से एक है। माइक्रोसॉफ्ट एक ऐसी कंपनी है, जिसने पूरी दुनिया में कंप्यूटर की लोकप्रियता बढ़ाने का काम किया। इसकी स्थापना 4 अप्रैल 1975 को हुई थी, जब ज्यादातर अमेरिकी टाइपराइटर्स का इस्तेमाल करते थे। बचपन के दो दोस्तों बिल गेट्स और पॉल एलन ने माइक्रोसॉफ्ट बनाई, जो कंप्यूटर सॉफ्टवेयर बनाती है। 1979 में न्यू मैक्सिको से माइक्रोसॉफ्ट वॉशिंगटन स्टेट में शिफ्ट हुई और वहीं पर एक बड़ी मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कॉर्पोरेशन के तौर पर उभरी। 1987 में माइक्रोसॉफ्ट ने शेयर निकाले और 31 साल के गेट्स दुनिया के सबसे युवा अरबपति बन गए।

गेट्स और एलन ने जब माइक्रोसॉफ्ट शुरू की तो इसे माइक्रो-सॉफ्ट कहा यानी माइक्रोप्रोसेसर्स और सॉफ्टवेयर के शुरुआती शब्दों का जोड़ा। उस समय शुरुआती पर्सनल कंप्यूटर अल्टएयर 8800 के लिए सॉफ्टवेयर बनाए थे। एलन ने बोस्टन में प्रोग्रामर की नौकरी और गेट्स ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई छोड़कर नई कंपनी बनाने पर फोकस किया था। उस समय न्यू मैक्सिको में ही अल्टएयर 8800 के निर्माता एमआईटीएस (MITS) का कामकाज था, जहां माइक्रोसॉफ्ट ने काम शुरू किया था। 1978 के अंत तक माइक्रोसॉफ्ट की सेल्स 1 मिलियन डॉलर से अधिक हो गई और 1979 में कंपनी वॉशिंगटन पहुंच गई।

कंपनी ने अपने MS-DOS ऑपरेटिंग सिस्टम को IBM के पहले पर्सनल कंप्यूटर के लिए लाइसेंस कराया, जो 1981 में लॉन्च हुआ। इसके बाद अन्य कंप्यूटर कंपनियों ने भी MS-DOS को लाइसेंस करना शुरू किया, जिसमें कोई ग्राफिकल इंटरफेस नहीं था और यूजर्स को कमांड टाइप करनी होती थी, जिससे प्रोग्राम चलते थे। 1983 में एलन ने माइक्रोसॉफ्ट छोड़ी। उस समय उन्हें हॉडकिंस लिम्फोमा डायग्नोज हुआ था। सफल इलाज के बाद उन्होंने कई अन्य बिजनेस वेंचर किए।

1985 में माइक्रोसॉफ्ट ने एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च किया- विंडोज। इसमें ग्राफिकल इंटरफेस था, जिसमें ड्रॉप-डाउन मीनू और अन्य फीचर शामिल थे। अगले ही साल कंपनी का हेडक्वार्टर रेडमंड, वॉशिंगटन में शिफ्ट हुआ और $21 में एक शेयर की दर से $61 मिलियन जुटाए। 1980 के दशक में माइक्रोसॉफ्ट सेल्स के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी पर्सनल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कंपनी बन चुकी थी। 1995 के बाद घर और दफ्तरों में पर्सनल कंप्यूटरों का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा और इसी दौरान विंडोज 95 भी लॉन्च हुआ। इसमें स्टार्ट मीनू पहली बार आया और 7 मिलियन कॉपी सिर्फ शुरुआती पांच हफ्ते में बिक गई। 1990 के दशक के दूसरे हिस्से में इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ा। तब 1995 में माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर के नाम से अपना ब्राउजर लॉन्च किया।

1998 में यूएस डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस और 20 राज्यों के अटॉर्नी जनरल ने माइक्रोसॉफ्ट पर एंटीट्रस्ट कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाया। प्रतिस्पर्धियों को बाहर करने के लिए वह अपनी मार्केट पोजिशन का लाभ उठाता था। खैर, 2001 में मामला सेटल हुआ। और इसी साल, एक्सबॉक्स कंसोल के साथ माइक्रोसॉफ्ट ने वीडियो-गेम मार्केट में प्रवेश किया।

1971 के युद्ध के बाद 1972 में भारत और पाकिस्तान के बीच शिमला समझौता हुआ। इस पर भारत की ओर से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री जुल्फीकार अली भुट्टो ने हस्ताक्षर किए थे।
1971 के युद्ध के बाद 1972 में भारत और पाकिस्तान के बीच शिमला समझौता हुआ। इस पर भारत की ओर से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री जुल्फीकार अली भुट्टो ने हस्ताक्षर किए थे।

मुंबई में पढ़े पाकिस्तानी PM को आज ही हुई थी फांसी

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फीकार अली भुट्टो को 4 अप्रैल, 1979 को फांसी पर लटका दिया गया था। उन पर हत्या के षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप था। गिरफ्तारी के समय न सिर्फ भुट्टो की खूब पिटाई की गई थी, बल्कि फांसीघर तक उन्हें स्ट्रेचर पर जबरन ले जाया गया। उससे पहले की रात वे लगातार रोते रहे। भुट्टो मुंबई में पले-बढ़े। उनकी कई भारतीयों से दोस्ती थी। भुट्टो की मुंबई में पुश्तैनी प्रॉपर्टी भी थी और मुंबई के दौर के उनके कई किस्से लोग आज भी सुनाते हैं।

फौजी तानाशाह जिया उल हक ने कई देशों की माफी की अपील को भी ठुकरा दिया था। उस समय भारत में प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने इसे पाकिस्तान का आंतरिक मसला कहकर टाल दिया था। पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जरूर माफी की अपील की थी। अक्टूबर, 1977 में भुट्टो के खिलाफ हत्या का मुकदमा शुरू हुआ। लोअर कोर्ट के बजाय, सीधे हाईकोर्ट में। उन्हें फांसी की सजा मिली, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने कायम रखा। 4 अप्रैल 1979 को रावलपिंडी जेल में उन्हें फांसी से लटका दिया गया।

1969 में हास्केल कार्प को आर्टिफिशियल हार्ट लगाया

आज अगर कोई आर्टिफिशियल हार्ट की बात करे तो कुछ भी असामान्य नहीं लगता। अब तो 3डी प्रिंटर्स से हार्ट बना लेने तक की बात होती है। पर कल्पना करें कि आज से 50 साल पहले 1969 में ही आर्टिफिशियल हार्ट बन गया था। हास्केल कार्प नामक मरीज को इसने 65 घंटे जीवित भी रखा। यह बात अलग है कि मनुष्य का दिल मिलने से पहले ही उन्होंने दम तोड़ दिया। यह मेडिकल हिस्ट्री का पहला केस था, जब मशीन ने आर्टिफिशियल हार्ट का काम किया।

देश-दुनिया में 4 अप्रैल को हुई महत्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार हैं-

  • 1994 में तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने उग्येन थिनली दोरजी को नए कर्मापा के रूप में घोषणा की।
  • 1968 में मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन लूथर किंग जूनियर की हत्या जेम्स अर्ल रे ने की। रे को 99 साल की जेल की सजा हुई और उसने 1998 में जेल में ही दम तोड़ा।
  • 1949 में नॉर्थ एटलांटिक ट्रीटी पर 12 देशों ने साइन किए और नाटो का जन्म हुआ। आज इसे दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण मिलिट्री अलायंस के तौर पर देखा जाता है।
  • 1858 में ह्ययूज रोज के नेतृत्व में ब्रिटिश सेना के साथ युद्ध करने के बाद रानी लक्ष्मीबाई झांसी से निकलकर काल्पी पहुंची और बाद में ग्वालियर की ओर चली गईं।
  • 1818 में अमेरिकी कांग्रेस ने राष्ट्रध्वज में ’13 लाल और सफ़ेद स्ट्रिप्स तथा 20 सितारे’ शामिल किए।