• Home
  • Market
  • Mutual fund's multicap category falls short compared to Nifty, Mahindra Vridha Yojana's marginal benefit on loss of many funds

रिटर्न /निफ्टी की तुलना में म्युचुअल फंड की मल्टीकैप कटेगरी में कम गिरावट, कई फंड का घाटा पर महिंद्रा बढ़त योजना का मामूली लाभ

ऐसी कंपनियों के शेयर अक्सर ऊँचे वैल्यूएशन पर उपलब्ध होते हैं। फिर भी इनमें अधिक रिटर्न की बेहतर संभावना होती है ऐसी कंपनियों के शेयर अक्सर ऊँचे वैल्यूएशन पर उपलब्ध होते हैं। फिर भी इनमें अधिक रिटर्न की बेहतर संभावना होती है

  • अस्थिर बाजार में सुरक्षा प्रदान करती है मल्टीकैप कटेगरी
  • गिरावट में कम गिरती है और तेजी में ज्यादा बढ़ती है यह कैटेगरी

Moneybhaskar.com

May 25,2020 04:23:00 PM IST

मुंबई. हाल के समय में शेयर बाजार में भारी गिरावट दिखी है। आर्थिक पैकेज जारी होने के बाद भी बाजार में कोई तेजी नहीं दिखी है। लेकिन अगर आप इस तरह के अस्थिर बाजार से बचना चाहते हैं तो आपको म्युचुअल फंड की मल्टीकैप कटेगरी का सहारा लेना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि बाजार की तुलना में यह कटेगरी कम गिरती है। दूसरी ओर, जब बाजार ऊपर जाता है तो यह कटेगरी उसकी तुलना में ज्यादा बढ़ती है।

मल्टीकैप कटेगरी सभी मार्केट साइकल में बेहतर है

विश्लेषकों के मुताबिक म्युचुअल फंड की मल्टीकैप कटेगरी सभी मार्केट साइकल के लिए उचित है। आंकड़े बताते हैं कि तीन साल में निफ्टी-500 की गिरावट 2.29 प्रतिशत रही है। जबकि इसी अवधि में मल्टीकैप कटेगरी में गिरावट इससे काफी कम रही है। आंकड़े बताते हैं कि पिछले तीन साल में मल्टीकैप कटेगरी में प्रमुख म्युचुअल फंड की स्कीम्स में काफी कम गिरावट रही है। इस दौरान महिंद्रा बढ़त योजना में तीन साल में 0.2 प्रतिशत का रिटर्न मिला है।

हालांकि कई अन्य फंडों ने इस दौरान निराशाजनक प्रदर्शन किया है। फ्रैंकलिन इंडिया फोकस्ड इक्विटी फंड ने 3.7 प्रतिशत का घाटा दिया है।

डीएसपी, एडलवाइस, यूनियन मल्टीकैप का घाटा

इसी तरह इसी अवधि में डीएसपी फोकस फंड ने 2.8 प्रतिशत का घाटा दिया है। जबकि एडलवाइस मल्टी कैप फंड ने एक प्रतिशत का घाटा दिया है। आईडीएफसी फोकस्ड इक्विटी फंड ने 1 प्रतिशत का घाटा दिया तो यूनियन मल्टी कैप फंड ने 0.9 प्रतिशत का घाटा दिया है। पीजीआईएम इंडिया ने 0.4 प्रतिशत का घाटा दिया है। महिंद्रा बढ़त योजना एक और 3 साल में चौथे रैंक पर रही है।

बाजार अनिश्चितता भरे दौर में है

विश्लेषकों के मुताबिक इक्विटी बाजार का उतार-चढ़ाव बहुत ही अनिश्चितता भरा है। हालांकि अगर किसी को लंबी अवधि के लिए निवेश करना है तो उसे इक्विटी ओरिएंटेड म्युचुअल फंड की स्कीमों पर फोकस करना चाहिए। क्योंकि इक्विटी वाले म्युचुअल फंड लंबी अवधि में वेल्थ का निर्माण करने में अहम भूमिका निभाते हैं। मिड कैप फंड आमतौर पर हाई क्वालिटी वाले बिजनेस की पहचान कर उनके स्टॉक में निवेश करते हैं। ये फंड ग्रोथ ओरिएंटेड कंपनियों पर फोकस करते हैं।

कंपनियों की पहचान रिसर्च से की जाती है

महिंद्रा म्युचुअल फंड के एमडी एवं सीईओ आशुतोष बिश्नोई कहते हैं कि कंपनियों के पोर्टफोलियो की पहचान बहुत ही रिसर्च के साथ की जाती है। केवल उन कंपनियों को पोर्टफोलियो में शामिल किया जाता है, जिनके कारोबार में मजबूत ’कैश फ्लो’ की संभावना ज्यादा होती है, और उसमें आगे चलकर वृद्धि की संभावना भी रहती है। ऐसी कंपनियां जिनमें अपने प्रतिस्पर्धियों की तुलना में ज्यादा लाभ कमाने की काबलियत हो।

वह कंपनियां जो लंबे समय तक अपने बिज़नेस में स्थापित रह सकती हैं। वो कंपनियां जिन्हें ग्रोथ के लिये बाहरी कैपिटल की आवश्यकता नहीं होती। ऐसी कंपनियों के शेयर अक्सर ऊँचे वैल्यूएशन पर उपलब्ध होते हैं। फिर भी इनमें अधिक रिटर्न की बेहतर संभावना होती है।

X
ऐसी कंपनियों के शेयर अक्सर ऊँचे वैल्यूएशन पर उपलब्ध होते हैं। फिर भी इनमें अधिक रिटर्न की बेहतर संभावना होती हैऐसी कंपनियों के शेयर अक्सर ऊँचे वैल्यूएशन पर उपलब्ध होते हैं। फिर भी इनमें अधिक रिटर्न की बेहतर संभावना होती है

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.