पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे CM योगी:PM मोदी के दौरे से पहले अधिकारियों संग की बैठक; जानिए क्या दिए निर्देश

वाराणसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार शाम दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी आए हैं। यहां उन्होंने श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में दर्शन-पूजन भी किया। उन्होंने जुलाई में प्रस्तावित पीएम मोदी के काशी दौरे से पहले उनके हाथों लोकार्पित और शिलान्यास होने वाली परियोजनाओं की जानकारी ली। फिलहाल जिला प्रशासन ने 1500 करोड़ रुपए से ज्यादा की 50 परियोजनाओं की सूची तैयार की है।

मुख्यमंत्री योगी ने सर्किट हाउस सभागार में कहा कि सार्वजनिक और धार्मिक कार्य सड़क पर नहीं होना चाहिए। सड़कें जन सामान्य के आवागमन के लिए पूरी तरह खुली होनी चाहिए। अतिक्रमण के लिए पुलिस और नगर निगम की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। वेंडरों से नगर निगम या पुलिस द्वारा अवैध वसूली कतई नहीं होनी चाहिए। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के अंतर्गत वेंडरों का व्यवस्थित तरीके से पुनर्वास कराया जाए। तहसील और थानों की कार्रवाई पर नजर रखी जा रही है। अगली बैठक में तहसीलों और थानों की जिम्मेदारी तय की जाएगी।

श्री काशी विश्वनाथ का जलाभिषेक करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।
श्री काशी विश्वनाथ का जलाभिषेक करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

समीक्षा बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश

  • हर घर नल योजना परियोजना को प्राथमिकता पर पूरा कराएं। परियोजना में मेन पावर बढ़ाकर काम में तेजी लाएं।
  • गो आश्रय स्थल नए बनाने की बजाए पुराने की क्षमता में वृद्धि की जाए।
  • आंगनबाड़ी केंद्रों पर नियमित एवं व्यवस्थित तरीके से पुष्टाहार वितरण का काम हो।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना (नगरीय) में दलालों के सक्रिय होने और अवैध धन वसूली की शिकायत मिल रही है। इस पर नगर निगम के अधिकारी सख्त कार्रवाई करें।
  • लोक निर्माण विभाग के अभियंता ध्यान दें। जिन सड़कों पर निर्माण कार्य चल रहा है उनका काम गुणवत्ता के साथ समय से पूरा हो। टेंडर प्रक्रिया पूरी पारदर्शिता एवं ईमानदारी के साथ सुनिश्चित हो।
  • प्रहरी पोर्टल पर छेड़छाड़ की शिकायत मिल रही है। इसमें किसी भी स्तर पर गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
  • जिन फ्लाईओवरों के निर्माण कार्य किए जा रहे हैं, उनमें सुरक्षा मानकों का प्रत्येक दशा में सेतु निगम पालन सुनिश्चित कराए।
  • प्राथमिक विद्यालयों में पेयजल और टॉयलेट की समुचित व्यवस्था की जिम्मेदारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी की है। वह महीने में एक बार प्रधानाचार्य के साथ बैठक अवश्य करें।
  • डीबीटी के माध्यम से भेजे जाने वाले पैसे का समुचित उपयोग हो। यह सुनिश्चित कराया जाए कि उन पैसों से बच्चों के ड्रेस वगैरह की ही खरीद हो।
  • विद्युत विभाग का 13 हजार करोड़ रुपए का बकाया है। इसलिए एकमुश्त समाधान योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार कराकर बकाया धनराशि जमा कराई जाए।
  • संत रविदास जन्मस्थली पर कराए जा रहे सुंदरीकरण का काम जल्द पूरा हो।
  • कमिश्नर सारनाथ में चल रहे लाइट एंड साउंड शो को और आकर्षक बनवाएं।
  • कोविड-19 टेस्टिंग बढ़ाई जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कोविड-19 हेल्प डेस्क हर जगह स्थापित कराएं।
  • ग्राम पंचायतों के पंचायत भवनों को ग्राम सचिवालय के रूप में विकसित कर फाइबर ऑप्टिकल से जोड़ें।
  • कमिश्नरी परिसर में बनने वाले इंटीग्रेटेड कार्यालय भवन का कार्य विकास प्राधिकरण के माध्यम से कराएं।
  • माफियाओं के विरुद्ध चल रही कार्रवाई में और तेजी लाएं। पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाएं। थानों में समुचित सफाई व्यवस्था सुनिश्चित हो। थाना एवं तहसील दिवस को और प्रभावी बनाया जाए। राजस्व एवं पुलिस की कार्रवाई पूरी तरह पारदर्शी हो।
  • आईजीआरएस पोर्टल से प्राप्त शिकायती प्रार्थना पत्रों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्ता के साथ समय से हो।
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर का भ्रमण करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर का भ्रमण करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

30 जून तक काम पूरा करने का है लक्ष्य
वाराणसी में मौजूदा समय में निर्माणाधीन प्रोजेक्ट्स को पूरा करने की तारीख 30 जून निर्धारित की गई है। इसमें अक्षयपात्र योजना के तहत 25 हजार स्कूली बच्चों के मेगा किचन सहित कई ऐसे प्रोजेक्ट हैं। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री मेगा किचन और कैंसर मरीजों के तीमारदारों के लिए बनाए गए रैनबसेरा का स्थलीय निरीक्षण करेंगे।

डिजिटल घरौनी वितरण कार्यक्रम में हुए शामिल
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखनऊ स्थित लोक भवन सभागार में घरौनियों यानी आवासीय अभिलेख का डिजिटल वितरण किया। इस कार्यक्रम में वाराणसी की सदर तहसील के रामलखन और बसंत लाल पटेल और पिंडरा तहसील के राकेश मौजूद थे।

इसके अलावा तहसील और जिला स्तर पर प्रशासन के आला अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने 14 हजार 322 घरौनियों का वितरण किया। वाराणसी में अब तक 40 हजार 155 घरौनियों को डिजिटल किया जा चुका है। इसमें से 25,800 घरौनियों का वितरण पहले ही किया जा चुका था।

खबरें और भी हैं...