पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

काशी में घाटों का एक-दूसरे से संपर्क टूटा:8 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा गंगा का जलस्तर, जल पुलिस कर रही निगरानी; NDRF भी अलर्ट

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में गंगा में गश्त करते हुए एनडीआरएफ की 11वीं वाहिनी के जवान। - Money Bhaskar
वाराणसी में गंगा में गश्त करते हुए एनडीआरएफ की 11वीं वाहिनी के जवान।

पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश की वजह से वाराणसी में गंगा का जलस्तर तेजी से बढ़ा है। वाराणसी में 8 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गंगा का जलस्तर बढ़ने की वजह से अर्धचंद्राकार दिखने वाले 84 घाटों का संपर्क एक-दूसरे से टूट गया है। रविवार की दोपहर 2 बजे वाराणसी में गंगा का जलस्तर 64.76 मीटर दर्ज किया गया। वाराणसी में गंगा का चेतावनी बिंदु 70.26 मीटर और खतरे का निशान 71.26 मीटर है। गंगा के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए जल पुलिस और NDRF की 11वीं वाहिनी के जवान अलर्ट मोड में है।

वाराणसी के हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह की जगह बदली।
वाराणसी के हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह की जगह बदली।

हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह का स्थान बदला

गंगा का जलस्तर बढ़ने के कारण मणिकर्णिका और हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह का परंपरागत स्थान बदल गया है। पहले जो शव सीढ़ियों के नीचे जलते थे अब वह दोनों घाटों पर ऊपर जलाए जा रहे हैं। जलस्तर ज्यादा बढ़ेगा तो चिताएं और ऊपर जलाई जाएंगी। हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह कराने वाले डोम राजा परिवार के ओंकार चौधरी ने बताया कि अभी जलस्तर और तेजी से बढ़ेगा। पानी जैसे-जैसे बढ़ता जाता है शवदाह उसी के अनुरूप ऊंचाई वाले स्थान पर किया जाता है।

दशाश्वमेध घाट पर गंगा में स्नान करते श्रद्धालु।
दशाश्वमेध घाट पर गंगा में स्नान करते श्रद्धालु।

गंगा स्नान करने वाले श्रद्धालुओं का उत्साह बरकरार

सावन के महीने में श्री काशी विश्वनाथ के दर्शन-पूजन के लिए जो भी श्रद्धालु वाराणसी आते हैं वह राजेंद्र प्रसाद घाट और शीतला घाट सहित आसपास के अन्य गंगा घाटों पर स्नान जरूर करते हैं। रविवार को भी श्रद्धालुओं का गंगा स्नान जारी रहा। हालांकि दशाश्वमेध घाट स्थित जल पुलिस चौकी से लोगों को लगातार आगाह किया जा रहा है कि वो गहरे पानी में न जाएं। एसीपी दशाश्वमेध अवधेश कुमार पांडेय ने बताया कि प्रमुख गंगा घाटों पर पुलिस की गश्त बढ़ा दी गई है।

हरिश्चंद्र घाट पर गंगा के पानी में डूबे मंदिर।
हरिश्चंद्र घाट पर गंगा के पानी में डूबे मंदिर।

नदियों किनारे रहने वाले किए गए एलर्ट

वाराणसी में गंगा, वरुणा और गोमती नदी के किनारे रहने वालों को बाढ़ के मद्देनजर जिला प्रशासन की ओर से एलर्ट किया गया है। जिले में बाढ़ प्रभावित के तौर पर 206 गांव चिह्नित हैं। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि चिह्नित गांवों में पशुओं के लिए चारा और टीका की व्यवस्था कराई गई है। जिले में 62 बाढ़ चौकियां बनाई जा रही हैं। कोविड-19 को देखते हुए यह चौकियां नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों के संपर्क में रहेंगी। बाढ़ प्रभावित गांवों के लोगों को आपदा प्रबंधन की भी जानकारी दी जा रही है।

दशाश्वमेध घाट के समीप एलर्ट मोड में एनडीआरएफ का जवान।
दशाश्वमेध घाट के समीप एलर्ट मोड में एनडीआरएफ का जवान।
खबरें और भी हैं...