पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महाराष्ट्र में अस्वाभाविक गठबंधन था:केंद्रीय मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय वाराणसी में बोले- शिव सेना के विचारों के प्रति कमिटेड लोग कर रहे संघर्ष

वाराणसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय।

महाराष्ट्र के सियासी संकट को लेकर केंद्रीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने शनिवार को वाराणसी में कहा कि निश्चित रूप से वहां एक अस्वाभाविक गठबंधन था। वहां शिव सेना के विचारों के प्रति कमिटेड लोगों का संघर्ष है। हमारे केंद्रीय नेतृत्व की संपूर्ण घटनाक्रम पर नजर है। महाराष्ट्र की जनता के प्रति हमारा लगाव और सम्मान है। आगे जैसी परिस्थितियां होंगी, हमारा केंद्रीय नेतृत्व महाराष्ट्र की जनता के हित में वैसा निर्णय लेगा।

भाजपा की विचारधारा में सर्वधर्म समभाव और देश की जनता का विकास है। राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रयास तो यही किया जाता है कि सर्वसम्मति से निर्णय हो। चुनाव की परिस्थितियां बनेंगी तो जरूर होगा। हमारे राजग गठबंधन ने सामाजिक सरोकारों से जुड़ी हुई आदिवासी समाज की द्रौपदी मुर्मू को प्रत्याशी घोषित किया है। देश में इसका सकारात्मक संदेश गया है।

आपातकाल के दौरान जेल जाने वाले 17 लोकतंत्र सेनानियों को केंद्रीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने सम्मानित किया।
आपातकाल के दौरान जेल जाने वाले 17 लोकतंत्र सेनानियों को केंद्रीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने सम्मानित किया।

17 लोकतंत्र सेनानी सम्मानित किए गए

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शनिवार को आपातकाल को याद करते हुए वाराणसी में काला दिवस मनाया। गुलाबबाग स्थित भाजपा कार्यालय में 17 लोकतंत्र सेनानियों को डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि आपातकाल के अत्याचारों को याद करते हुए हम पूरे देश में प्रत्येक वर्ष 25 जून को काला दिवस मनाते हैं। सम्मानित किए गए लोकतंत्र सेनानियों ने आपातकाल में कई अत्याचार सहे थे। मगर, लोकतंत्र के लिए उन्होंने अपनी आवाज बुलंद रखी थी।

डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि हम सब आज नरेंद्र मोदी युग में जी रहे हैं। जो राह अटल-आडवाणी ने और उनसे भी पहले पंडित दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने दिखाई थी, उसके तहत हम भारत के लोकतंत्र की मजबूती के लिए इस दिन को याद करते हैं। लोकतंत्र मजबूत रहे और देश के लोग एकजुट रहें, हमारा एकमात्र उद्देश्य यही है।