पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अग्निपथ के विरोध में चला हस्ताक्षर अभियान:वाराणसी में NSUI कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ छेड़ा सैनिक सत्याग्रह

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अग्निपथ स्कीम के विरोध स्वरूप आज वाराणसी में NSUI के सदस्यों ने  हस्ताक्षर अभियान चलाया। - Money Bhaskar
अग्निपथ स्कीम के विरोध स्वरूप आज वाराणसी में NSUI के सदस्यों ने हस्ताक्षर अभियान चलाया।

अग्निपथ स्कीम के विरोध में आज वाराणसी में हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। कांग्रेस के स्टूडेंट यूनियन ने इस स्कीम का जमकर विरोध किया। NSUI के कार्यकर्ताओं ने विरोध स्वरूप हस्ताक्षर अभियान चलाया। इसमें 100 से ज्यादा छात्रों ने सैनिक सत्याग्रह लिखे बैनर पर अपना हस्ताक्षर किया।

काशी विद्यापीठ के छात्र ऋषभ पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युवाओं के लिए कुछ भी बढ़िया नहीं किया है।
काशी विद्यापीठ के छात्र ऋषभ पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युवाओं के लिए कुछ भी बढ़िया नहीं किया है।

यह विरोध प्रदर्शन आज से महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से शुरू हुआ। छात्र ऋषभ पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युवाओं के लिए कुछ भी अच्छा नहीं किया है।

वाराणसी में अग्निपथ के विरोध में प्रदर्शन आज से महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में शुरू हुआ।
वाराणसी में अग्निपथ के विरोध में प्रदर्शन आज से महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में शुरू हुआ।

काशी विद्यापीठ के छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किए कई सवाल।

  • आर्मी की परीक्षा पास कर चुके युवाओं को बाहर कर दिया गया है।
  • 4 साल बाद अग्निवीर क्या करेंगे।
  • 10% रिजर्वेशन से केवल 1 हजार ज्यादा युवा अग्निवीर बन सकते हैं।
  • सेना की पेंशन और रैंक सब खत्म कर दिया गया।
  • सरकार ने सेना से जुड़ीं याेजनाओं को ठेके पर दे दिया।
  • सेना देश की सुरक्षा से जुड़ा मामला है। उद्योगपतियाें को फायदे दिलाने वाले टूल नहीं। इसलिए भारत सरकार इस स्कीम को वापस लेकर युवाओं को बेहतर संदेश दे।
  • छात्रों ने विरोध प्रदर्शन के बाद काशी विद्यापीठ के संस्थापक शिप प्रसाद गुप्त को आज उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि भी दिया।सेना की पेंशन और रैंक

इस तरह अग्निपथ का सफर

वायु सेना की तरफ से इसकी चयन प्रक्रिया 24 जून से शुरू कर दी गई है।अग्निपथ स्कीम की लांचिंग 14 जून को हुई। 16 -17 और 18 जून को देश भर में उपद्रव और आगजनी शुरू हो गई। इस स्कीम के तहत 75% जवानों की भर्ती होगी। चार साल के लिए की जाएगी। योजना के तहत भर्ती होने वाले सैनिकों को अग्निवीर कहा जाएगा। वहीं, केवल 25 फीसदी को ही अगले 15 साल सेना में रखा जाएगा। अधिकतम आयु सीमा 21 से बढ़ाकर 23 साल कर दी गई है।

खबरें और भी हैं...