पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विग में डिवाइस लगाकर गया था परीक्षा देने:वाराणसी में दरोगा भर्ती परीक्षा में धांधली के प्रयास का आरोपी धराया, साजिश में शामिल 4 अन्य की तलाश

वाराणसी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दरोगा भर्ती परीक्षा के लिए विग में डिवाइस लगाकर पहुंचा था रोहित यादव। - Money Bhaskar
दरोगा भर्ती परीक्षा के लिए विग में डिवाइस लगाकर पहुंचा था रोहित यादव।

उत्तर प्रदेश की दरोगा भर्ती परीक्षा-2021 में शामिल होने के लिए वाराणसी में एक अभ्यर्थी अपने विग में सिम, बैटरी और माइक युक्त इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगाकर पहुंचा था। इसके साथ ही वह अपने कान में छोटे-छोटे ट्रांसमीटर और 1 माइक्रोफोन लगाया हुआ था। हालांकि परीक्षा केंद्र पर मेटल डिटेक्टर से हुई जांच में जालसाज की चालाकी धरी की धरी रह गई और वह पकड़ा गया। गिरफ्त में आए आरोपी की शिनाख्त प्रयागराज की एबी जीआरपी कॉलोनी, लीडर रोड निवासी रोहित यादव के तौर पर हुई है। प्रकरण में वाराणसी की चितईपुर थाने की पुलिस को 4 अन्य आरोपियों की तलाश है।

इसी विग में इलेक्ट्रानिक डिवाइस लगाकर रोहित परीक्षा देने आया था।
इसी विग में इलेक्ट्रानिक डिवाइस लगाकर रोहित परीक्षा देने आया था।

बीप की आवाज आने पर खड़े हुए कान

चितईपुर थाने की पुलिस को मध्य प्रदेश के सीहोर निवासी विनोद ठाकुर ने बताया कि वह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज इंफॉर्मेशन टेक्नालॉजी के चीफ प्रॉक्टर हैं। उनकी संस्था बीती 12 नवंबर से आगामी 2 दिसंबर तक धर्मवीर कॉलोनी स्थित धन्नू राम ऑनलाइन टेस्ट एंड कंप्यूटर एपलीकेशन प्राइवेट लिमिटेड में उत्तर प्रदेश सब इंस्पेक्टर परीक्षा-2021 का आयोजन करा रही है। परीक्षा केंद्र में अभ्यर्थी रोहित यादव आया तो मेडिकल डिटेक्टर से उस चेक किया गया। मेटल डिटेक्टर सिर में लगाने पर बीप की आवाज आई तो चेकिंग स्टॉफ के कान खड़े हो गए।

रोहित यादव को किनारे करके जांच शुरू की गई तो पता लगा कि वह अपने बाल पर विग लगाकर आया है और उसी में उसने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगा रखी थी। बारीकी से हुई जांच में रोहित के कान से भी डिवाइस बरामद हुई तो सूचना पुलिस को दी गई।

रोहित के कान से बरामद की गई डिवाइस।
रोहित के कान से बरामद की गई डिवाइस।

साजिश में अन्य लोग भी हैं शामिल

चितईपुर थाना प्रभारी मिर्जा रिजवान बेग ने बताया कि रोहित से विस्तार से पूछताछ की गई है। इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस तैयार करने से लेकर अपराध की साजिश रचने में अन्य लोग भी शामिल हैं। रोहित की मदद से ही उनका नाम-पता हासिल कर आरोपियों की धरपकड़ के लिए पुलिस की 2 टीम गठित की गई है। पूरी उम्मीद है कि इस अपराध में शामिल सभी लोग बहुत ही जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे।