पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाराणसी...मलिन बस्ती की 5000 लड़कियों ने सीखा सेल्फ डिफेंस:9 दिन तक बच्चियों ने जाना काउंटर अटैक, 3 घंटे सुरक्षा के बताए गए उपाय

वाराणसी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी के अस्सी घाट पर मलिन बस्तियों को दी गई सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग। - Money Bhaskar
वाराणसी के अस्सी घाट पर मलिन बस्तियों को दी गई सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग।

मलिन बस्तियों में होने वाली हिंसा से लड़कियों को बचाने के लिए वाराणसी में एक बड़ा प्रयास किया गया है। शहर में मौजूद मलिन बस्तियों की करीब 5000 लड़कियों को इस नवरात्रि सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग दी गई। 9 दिन तक अस्सी घाट के सुबह-ए-बनारस मंच पर कैंप लगाकर रोजाना 3 घंटे सुरक्षा के उपाय बताए गए। इस ट्रेनिंग के माध्यम से कमजोर वर्ग की लड़कियों को किसी भी विकट परिस्थिति में शारीरिक रूप से काउंटर करने के लिए तैयार करना है। स्पोर्ट्स एंड फिटनेस एकेडमी की मिशन शक्तिसेना अभियान के तहत इसमें वाराणसी के कई संगठनों और स्कूलों ने भी सहयोग किया।

आज अस्सी घाट पर अंतिम दिन की ट्रेनिंग में आए चीफ गेस्ट समाजसेवी जमुना शुक्ला ने सेल्फ डिफेंस स्किल कोर्स के 1 सब्जेक्ट के तौर पर पढ़ाने की बात कही। उन्होंने कहा कि जब तक बच्चों को स्कूल में रोजाना क्लास के लेवल पर इसकी ट्रेनिंग नहीं दी जाएगी, तब लड़कियों में यह विधा विकसित नहीं की जा सकती। यदि 1 विषय के तौर पर क्लास में रोजाना लेक्चर और प्रैक्टिकल हो तो ही हर लड़की सशक्त हो पाएगी।

उन्होंने शिक्षाविदों से इसका एक प्रोफार्मा तैयार कर समाज और सरकार तक पहुंचाने की भी बात कही। इस आयोजन में चीफ ट्रेनर सेंसेई (सेल्फ डिफेंस सिखाने वाले शिक्षक) अजीत श्रीवास्तव और सेंसेई अखिलेश रावत ने लड़कियों को बड़ी बारीकी से सेल्फ डिफेंस के गुर बताए।

प्लास्टिक पॉल्यूशन से बचाव का संदेश
इस अभियान में वाराणसी के कोने-कोने में मौजूद मलिन बस्तियों से लड़कियों को रोजाना अस्सी घाट पर लाकर डिफेंस और अटैक की तरकीब सिखाई गई। वहीं पूरे 9 दिन तक वेस इंडिया और रीसाइक्लो पावर के प्रतिनिधि व पर्यावरणविद डॉ. राजेश श्रीवास्तव द्वारा प्लास्टिक पॉल्यूशन के नुकसान और बचाव की बात कही।

इन स्कूलों और संगठनों ने की मदद
इस कैंप में वाराणसी के कई स्कूलों के टीचर ने हिस्सा लिया। बरेका स्कूल, MP मेमोरियल स्कूल, माउंट लिट्रा जी स्कूल, निवेदिता शिक्षा सदन, पाणिनि कन्या महाविद्यालय, बसंत कन्या महाविद्यालय, संत अतुलानंद रेजिडेंशियल एकेडमी, अशोका इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के लोग शामिल हैं। वहीं, बरेका के अधिकारियों ने भी लड़कियों को सेल्फ डिफेंस की कई तकनीक बताई।

वहीं संगठनों में विकास एवं शिक्षण समिति, ओरिजेंस, रोटरी क्लब, उदय-आद्या, काशी फाउंडेशन आदि शामिल रहे। वहीं विशिष्ट अतिथि के तौर पर कृष्ण मोहन पांडेय, सेम्पई गणेश विश्वकर्मा, राजीव राजभर, सेम्पई हेमबरम, सेम्पई शिवम, डॉ. राम नारायण यादव आदि लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...