पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मोदी के सामने 45 मिनट होगा हवाई ताकत का प्रदर्शन:सुखोई, मिराज के बीच आएगा राफेल, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर 'टच एंड गो' ऑपरेशन

सुल्तानपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण कार्यक्रम तय हो गया है। सुल्तानपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 नवंबर को दिन में करीब 2 बजे पहुंच जाएंगे। वह यहां 1 घंटे 45 मिनट तक रहेंगे। इस दौरान एक घंटे तक उनकी जनसभा होगी, जबकि 45 मिनट एयर शो होगा।

टच एंड गो ऑपरेशन के तहत फाइटर प्लेन एक्सप्रेस-वे को टच करते हुए फिर उड़ान भरेंगे। इनके आसमानी करतब देखकर हर कोई रोमांचित हो उठेगा। एयर शो में सुखोई, मिराज, राफेल, एएन 32 जैसे प्लेन शामिल रहेंगे।

दोनों तरफ बनाए जाएंगे औद्योगिक गलियारे
अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस वे प्रदेश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है। कोविड की दो वेब के बावजूद इसको 36 महीने में तैयार किया गया। देश के लिए यह जहां धरोहर है, वहीं प्रदेश के लिए रीढ़ की हड्डी होगा। इसके दोनों तरफ औद्योगिक गलियारे बनाए जाएंगे, जिसमें मशीनरी, फूड प्रोसेसिंग, डेयरी-मिल्क डेवलपमेंट होगा। जो लोग यहां से बाहर जाते हैं, उन्हें यहां रोजगार मिल सकेगा। बिहार और झारखंड के लोगों को फायदा मिलेगा वो सीधे दिल्ली पहुंचेंगे।

एडीजी कानून व्यवस्था एसएन सावंत ने बताया कि पीएम की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। जिले की पुलिस के साथ 6 एसपी मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम स्थल के आसपास कड़ा पहरा लगा दिया गया है। फिलहाल, 3 फाइटर प्लेन आ गए हैं। सीएम के सामने रिहर्सल हुआ है। 16 नवंबर तक रिहर्सल होते रहेंगे।

फाइटर प्लेन पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर रिहर्सल कर रहे हैं।
फाइटर प्लेन पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर रिहर्सल कर रहे हैं।
शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे। उनके सामने ही 3 फाइटर प्लेन पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पहुंचे और रिहर्सल किया।
शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे। उनके सामने ही 3 फाइटर प्लेन पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पहुंचे और रिहर्सल किया।

ये रहेंगे मौजूद
भाजपा प्रवक्ता विजय सिंह रघुवंशी ने बताया कि कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, सीएम योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, अयोध्या सांसद लल्लू सिंह, अनुराग ठाकुर, सांसद मेनका गांधी, पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर आने वाले सभी जिलों के सांसद पीएम के कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

340.824 किमी लंबा ये एक्सप्रेस-वे पूर्वी और पश्चिमी यूपी को जोड़ेगा। एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चांद सराय गांव से शुरू होगा, ये एक्सप्रेस वे लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अयोध्या, सुल्तानपुर, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, मऊ तथा गाजीपुर से होकर निकलेगा।
340.824 किमी लंबा ये एक्सप्रेस-वे पूर्वी और पश्चिमी यूपी को जोड़ेगा। एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चांद सराय गांव से शुरू होगा, ये एक्सप्रेस वे लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अयोध्या, सुल्तानपुर, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, मऊ तथा गाजीपुर से होकर निकलेगा।
यह एक्सप्रेसवे न सिर्फ उद्योग धंधों को बढ़ावा देगा, बल्कि क्षेत्रीय लोगों को बड़ी संख्या में रोजगार भी उपलब्ध कराएगा।
यह एक्सप्रेसवे न सिर्फ उद्योग धंधों को बढ़ावा देगा, बल्कि क्षेत्रीय लोगों को बड़ी संख्या में रोजगार भी उपलब्ध कराएगा।
पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से न सिर्फ उत्तर प्रदेश के बल्कि बिहार के लोगों को भी फायदा मिलेगा। इसके बनने के बाद अब दिल्ली से बिहार तक का सफर भी आसान हो जाएगा। लखनऊ से पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से गाजीपुर आसानी से पहुंचा जा सकेगा। गाजीपुर से बिहार बॉर्डर की सीमा सिर्फ 20 किमी दूर है।
पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से न सिर्फ उत्तर प्रदेश के बल्कि बिहार के लोगों को भी फायदा मिलेगा। इसके बनने के बाद अब दिल्ली से बिहार तक का सफर भी आसान हो जाएगा। लखनऊ से पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से गाजीपुर आसानी से पहुंचा जा सकेगा। गाजीपुर से बिहार बॉर्डर की सीमा सिर्फ 20 किमी दूर है।
अभी कुछ दिन यह सफर मुफ्त रहेगा। टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया जाएगा। यह कंपनी प्रति किमी के हिसाब से टोल की दरें तय करेगी।
अभी कुछ दिन यह सफर मुफ्त रहेगा। टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया जाएगा। यह कंपनी प्रति किमी के हिसाब से टोल की दरें तय करेगी।
आगरा और मेरठ एक्सप्रेस-वे की तरह यहां भी एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया गया है। एक्सप्रेस-वे पर दो एंबुलेंस के अलावा 20 पेट्रोलिंग वाहन भी तैनात रहेंगे। अनुमान के अनुसार, इससे सरकार को टोल से 202 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त होगा। दरें लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे की दरों के आसपास ही रखी जाएंगी।
आगरा और मेरठ एक्सप्रेस-वे की तरह यहां भी एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया गया है। एक्सप्रेस-वे पर दो एंबुलेंस के अलावा 20 पेट्रोलिंग वाहन भी तैनात रहेंगे। अनुमान के अनुसार, इससे सरकार को टोल से 202 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त होगा। दरें लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे की दरों के आसपास ही रखी जाएंगी।
खबरें और भी हैं...