पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जयसिंहपुर में 22 घंटे से बिजली गुल:25 ग्राम पंचायत अंधेरे में, आंधी और तूफान से चरमराई व्यवस्था, सरकारी दफ्तरों में कामकाज प्रभावित

जयसिंहपुर, सुलतानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयसिंहपुर क्षेत्र में आई आंधी और तूफान से बिजली आपूर्ति पूरी तरह से चरमरा गई है। - Money Bhaskar
जयसिंहपुर क्षेत्र में आई आंधी और तूफान से बिजली आपूर्ति पूरी तरह से चरमरा गई है।

जयसिंहपुर क्षेत्र में आए आंधी और तूफान से बिजली आपूर्ति पूरी तरह से चरमरा गई है। 33 हजार लाइन पर पेड़ गिरने से तहसील मुख्यालय के पास विद्युत उपकेंद्र पूरी तरह से ठप है। 22 घण्टे बाद भी आपूर्ति बहाल न होने से जहां सरकारी कामकाज प्रभावित हो रहे हैं। वहीं घरों में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शोपीस बनकर रह गए हैं। हालांकि बिजली विभाग के अधिकारी खामी को दूर कराने में लगे हुए हैं।

लाइन की मरम्मत में जुटे कर्मचारी।
लाइन की मरम्मत में जुटे कर्मचारी।

11 हजार लाइन के पोल क्षतिग्रस्त

जयसिंहपुर तहसील क्षेत्र में सोमवार को दोपहर बाद आंधी और तूफान ने जमकर तबाही मचाई थी। इस दौरान बरौंसा समेत कई स्थानों पर पेड़ गिरने से 11 हजार लाइन के पोल क्षतिग्रस्त हो गए। साथ ही बिजली के तार भी टूट गए। तहसील मुख्यालय के पास विद्युत उपकेंद्र को आने वाली 33 हजार की लाइन पर गोसैसिंहपुर के पास पेड़ गिर गया। जिससे सप्लाई बंद हो गई। सुबह जेसीबी से पेड़ हटवाते समय दो क्रॉस टूट जाने से समस्या बढ़ गई, जिसे दोपहर 12 बजे तक महकमा ठीक नहीं करा सका है।

पेड़ पर चढ़कर फाल्ट ठीक करता कर्मी।
पेड़ पर चढ़कर फाल्ट ठीक करता कर्मी।

शोपीस बनकर रह गए उपकरण

आपूर्ति न मिलने से जयसिंहपुर तहसील, ब्लॉक मुख्यालय, सीएचसी, रजिस्ट्री कार्यालय समेत अन्य सरकारी कार्यालयों का कामकाज प्रभावित है। उपकेंद्र से जुड़े 25 ग्राम पंचायतों में बिजली न होने से समस्या खड़ी हो रही है। घरों में रखे टीवी, फ्रिज समेत अन्य उपकरण शोपीस बनकर रह गए हैं। यहां तक की लोगों को मोबाइल चार्ज करने के लिए लंबी दूरी तय कर बाजार जाना पड़ रहा है। बिजली न होने से जनरेटर का सहारा ले रहे हैं।

काम चल रहा, जल्द आपूर्ति होगी बहाल

उपभोक्ता जसवंत सिंह, अंबिका प्रसाद, पंच बहादुर, पवन कुमार व प्रदीप वर्मा आदि ने बताया कि कई बार जेई, एसडीओ से शिकायत की गई, लेकिन बिजली कब मिलेगी, यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। बिजली विभाग के अधिकारियों की कार्यशैली से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। एक्सईएन गौरव तिवारी ने बताया कि 33 हजार लाइन पर फाल्ट होने की वजह हाइड्रा मंगाकर काम किया जा रहा है। जल्द ही आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी।