पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीतापुर में सरकारी स्कूलों का होगा कायाकल्प:केंद्र व राज्य सरकार देगी बजट, बाउंड्रीवाल-पेयजल सहित अन्य चीजों पर होगा काम

सीतापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीतापुर में अब बदलेगी परिषदीय विद्यालयों की सूरत - Money Bhaskar
सीतापुर में अब बदलेगी परिषदीय विद्यालयों की सूरत

सीतापुर में सरकारी की सूरत बदलने और उनके कायाकल्प के लिए अब डीएम ने नया आदेश जारी किए है। यहां केंद्रीय वित्त और राज्य वित्त से आने वाली धनराशि का अब सबसे पहले परिषदीय विद्यालयों की सूरत बदलने के प्रयोग में लाया जाएगा और उसके बाद ही किसी अन्य मद में वह धनराशि प्रयोग में लाई जाएगी। डीएम ने अब इस कार्य को सख्ती से लागू करने के लिए सभी प्रधानों,बीडीओ और ग्राम पंचायत अधिकारी व ग्राम विकास अधिकारियों को निर्देशित किया है। इस निर्णय के बाद अब स्कूलों की सूरत भविष्य में जरूर बदलने वाली है।

स्कूलों के सुधार के लिए डीएम ने दिए आदेश

परिषदीय विद्यालयों में धनराशि का सही समय पर आवंटन न होने पर वहां की स्थिति जर्जर हो जाती है। इसी के चलते अब स्कूलों के कायाकल्प के लिए केंद्र और राज्य वित्त से आने वाली धनराशि अब सबसे पहले प्रयोग में लायी जाएगी। मिली जानकारी के मुताबिक, स्कूलों के संवारने के लिए आयी धनराशि को कायाकल्प के बजाय दूसरे मदों में खर्च करने की शिकायतें लगातार बढ़ रही थी और इससे शासन की स्कूलों को संवारने की प्राथमिकता वाले कार्य भी अटक रहे थे। इसी के चलते डीएम ने अब धनराशि को खर्च करने से पहले स्कूलों की सूरत संवारने की योजना बनायी है। इससे परिषदीय स्कूलों की सूरत अब कुछ समय बाद अवश्य बदल सकती है।

बच्चों के हित मे होंगे कार्य

परिषदीय विद्यालयों की सजारने और उनकी सूरत बदलने का काम जोरों पर चल रहा है। इस केंद्रीय और राज्य वित्त की धनराशि से स्कूलों में बिजली,शौचालय पानी और पेयजल सम्बंधी कार्य कराये जाएंगे। इसके साथ ही विद्यालयों में बाउंड्रीवाल बनवाने के साथ ही अन्य कार्य प्राथमिकता के आधार पर कराये जाएंगे। नए आदेश के मुताबिक, अब स्कूलों में जब यह कार्य नही कराये जाते है तब तक धनराशि का दूसरे मदों में प्रयोग नही किया जा सकता है। डीएम के निर्देश दिए है कि अगर किसी भी ग्राम पंचायत में इसका उल्लंघन पाया जाता है तो उसके विरुद्ध सख्त कार्यवाई की जाएगी। बीएए अजीत कुमार का कहना है कि स्कूलों कर कायाकल्प से बच्चों में नई ऊर्जा आएगी और अच्छे वातावरण में बच्चों को नई शिक्षा मिल सकेगी।

खबरें और भी हैं...