पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीतापुर में 400 शिक्षकों का रुका वेतन:'स्कूल चलो अभियान' में दिखाई लापरवाही, निर्धारित नामांकन लक्ष्य नहीं कर पाए पूरा; BSA ने की कार्रवाई

सीतापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीतापुर में बेसिक शिक्षकों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। BSA ने तकरीबन 400 शिक्षकों का मई माह का वेतन रोकने दिया है। BSA ने 31 मार्च तक दिए गए लक्ष्य को समय पर पूर्ण न कर पाने पर 4 ब्लॉकों के शिक्षकों पर यह गाज गिराई है। बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों पर हुई कार्रवाई से पूरे महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। BSA के इस आदेश के साथ ही यह निर्देश दिए गए हैं कि लक्ष्य को जल्द ही पूर्ण कर ऑनलाइन डाटा फीड करें।

400 शिक्षकों का रुका वेतन
गौरतलब है कि सर्व शिक्षा अभियान को बढ़ावा देने के लिए "स्कूल चलो अभियान" 2022 चलाया गया था। इस अभियान में स्कूलों में तैनात शिक्षकों को अपने-अपने विद्यालयों में नवीन नामांकन बढ़ाने और उसकी जानकारी प्रेरणा पोर्टल पर लोड करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इसके साथ ही स्कूल चलो अभियान में हाउस होल्ड सर्वे का भी कार्य शिक्षकों को दिया गया था।

निर्धारित समय में यह सर्वे करके नामांकन की संख्या बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 31 मार्च के बाद बेसिक शिक्षा विभाग ने 19 ब्लॉकों की प्रगति रिपोर्ट मांगी, जिसमें 4 ब्लॉकों के विद्यालयों के 400 शिक्षकों की रिपोर्ट तय लक्ष्य से भी कम मिली।

6,66,822 नामांकन का था लक्ष्य
बेसिक शिक्षा विभाग सीतापुर में वर्ष 2022 के स्कूल चलो अभियान के तहत नवीन नामांकन का 6 लाख 66 हजार 822 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। इस दौरान विभाग ने रोजाना वॉट्सऐप ग्रुप पर निर्देश जारी किए थे, लेकिन 31 मार्च तक लक्ष्य का निर्धारण न हो पाने पर BSA ने नाराजगी व्यक्त की।

इस दौरान BSA अजीत कुमार ने 400 शिक्षकों का मई माह का वेतन रोकने की कार्रवाई करते हुए निर्देश जारी किए। BSA के इस निर्देश के बाद बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों में हड़कंप मच गया। BSA अजीत कुमार ने बताया कि यह कार्रवाई अभियान के तहत लक्ष्य को पूर्ण न कर पाने के एवज में की गई है।

खबरें और भी हैं...