पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीतापुर में 59 बस मालिकों का पेमेंट लटका:एक महीने पहले PM की रैली में बलरामपुर गई थी बसें, 5 लाख से अधिक का होना है पेमेंट

सीतापुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

10 और 11 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बलरामपुर की रैली में सीतापुर डिपो से 59 बसें मांगी गई थीं, जिनका भुगतान न होने से अब बस मालिकों ने आंदोलन तक की चेतावनी दे डाली है। एआरएम राकेश कुमार द्वारा सीतापुर डिपो से अनुबंधित 59 बसों को बहराइच भेजा गया था और प्रत्येक बस में ड्राइवर के साथ परिचालक भी साथ गया था।

15 हजार का नकद भुगतान होना सुनिश्चित था

एआरएम सीतापुर के अनुसार, प्रत्येक बस मालिक को रुपए 15 हजार का नकद भुगतान होना सुनिश्चित था। करीब 3 दिन बाद जब बसें वापस सीतापुर आईं तो बस मालिकों द्वारा एआरएम सीतापुर से रैली में गई बसों का भुगतान मांगा गया तो एआरएम ने ये कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया कि बसें बहराइच भेजी गई थीं तो भुगतान की जिम्मेदारी भी बहराइच डिपो की ही है।

गाड़ी मालिकों ने इस दौरान बहराइच के एआरएम से सम्पर्क किया तो उन्होंने भी बहराइच सिंचाई विभाग के एक जेई को भुगतान का जिम्मेदार बताते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया। बस मालिकों के करीब एक महीने तक बहराइच-सीतापुर के चक्कर लगाने के बाद बहराइच एआरएम द्वारा 5 लाख 25 हजार रुपए नकद सीतापुर डिपो को भेजे गए।

रैली में गई बसों का भुगतान न होने से परेशानी

बस मालिकों का आरोप है कि, बसों के पूरे भुगतान का पैसा सीतापुर डिपो में लाकर बंदर-बांट कर लिया गया। काफी समय तक एआरएम सीतापुर इसे छिपाते रहे कि सीतापुर डिपो में रैली भुगतान का रुपया लाया गया है, लेकिन जब बस मालिकों ने एआरएम सीतापुर पर दबाब बनाया और उच्च अधिकारियों तक जाने की बात कही तो और साथ ही एआरएम बहराइच द्वारा सीतापुर डिपो के कैशियर द्वारा 5 लाख 25 हजार रुपए सीतापुर डिपो भेजने का एक विभागीय पत्र उच्च अधिकारियों को भेजा गया।

तब जाकर एआरएम सीतापुर ने यह बात स्वीकार की पीएम की रैली का कुछ भुगतान का पैसा आया था। बावजूद इसके लगभग एक महीने से ज्यादा होने पर भी अभी तक बस मालिकों का बसों का भुगतान नहीं किया गया है। अब बात यह उठती है कि आखिर वो 5 लाख 25 हजार रुपए आए तो गए कहां।

एक दिवसीय पहिया जाम करेंगे बस मालिक

वाहन स्वामी भुगतान के लिए विभाग के चक्कर लगा रहे हैं। जब इस संबंध में एआरएम सीतापुर राकेश कुमार से भुगतान हेतु बात की गई तो उनका कहना है कि जहां गाड़ी गई वहीं से भुगतान होता है। उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है। बस मालिक रैली में गई बसों के भुगतान के लिए बहराइच, बलरामपुर चक्कर लगाए हुए हैं। बस मालिकों को अभी तक पीएम की रैली का भुगतान प्राप्त नहीं हुआ है और वे सभी बस मालिक अब अपनी बसों का संचालन ठप करने के लिए रणनीति तैयार कर रहे हैं। बस मालिकों कहना है कि वह अपनी बसों का एक दिवसीय पहिया जाम करने के लिए एआरएम को ज्ञापन देंगे।