पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजम से मिलने सीतापुर जेल पहुंचे शिवपाल:सपा से गठबंधन के असमंजस के बीच खान को साधेंगे; 100 सीटों की शर्त पर अखिलेश तैयार नहीं

सीतापुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीतापुर जेल में बंद रामपुर से सपा सांसद आजम खां से मिलने प्रसपा (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव पहुंचे हैं। दोनों नेता जेल में एक साथ करीब डेढ़ घंटे रहे। बाहर आने के बाद शिवपाल ने सपा से गठबंधन पर कहा कि ये राजनीति की बात है। जल्द ही, परिणाम सबके सामने होंगे।

शिवपाल ने आजम से मुलाकात पर कहा कि हम चाहते हें कि सब लोग एक हो जाए। सपा चुनाव से पहले एक होकर मैदान में लड़े। भाजपा सरकार में झूठे मुकदमे लिखकर लोगों को जेल भेजा जा रहा है। जेल के अंदर कैदियों के खाने-पीने के बजट से भी खिलवाड़ होता है।

आजम खां ने टीईटी पेपर लीक पर कहा कि सरकार और नौकरशाही का हाथ होता है। दोनों के बीच ये मुलाकात उस समय हो रही है, जब शिवपाल और अखिलेश के बीच गठबंधन को लेकर कोई एक राय नहीं बन पा रही है। शिवपाल यादव ने गठबंधन के लिए 100 सीटों की शर्त रखी है। अभी तक अखिलेश की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है।

सीतापुर जेल में बंद सपा सांसद आजम खां से मिलने पहुंचे प्रसपा प्रमुख शिवपाल यादव।
सीतापुर जेल में बंद सपा सांसद आजम खां से मिलने पहुंचे प्रसपा प्रमुख शिवपाल यादव।

फरवरी 2020 से जेल में बंद हैं आजम खां

आज दोपहर 12.30 बजे शिवपाल यादव का काफिला जिला कारागार परिसर में पहुंचा। गाड़ी से उतरकर वह सीधे आजम से मिलने चले गए। सपा सांसद आजम खां फरवरी 2020 से ही सीतापुर जेल में बंद हैं। आजम खां पर रामपुर जिले में अवैध जमीन कब्जा और फर्जी प्रमाण पत्र बनाने जैसे कई संगीन आरोप लगे हैं।

आजम खां की पत्नी डॉ. तंजीम फातिमा भी जेल में बंद थीं। उन्हें जमानत मिल गई थी। इस समय आजम खां और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम दोनों ही जेल में बंद हैं। आजम पर 80 और अब्दुल्ला पर 40 से ज्यादा केस दर्ज हैं। हालांकि, कई मामलों में उन्हें जमानत भी मिल चुकी है।

फरवरी 2020 में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सीतापुर जेल में आजम खां से मुलाकात की थी।
फरवरी 2020 में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सीतापुर जेल में आजम खां से मुलाकात की थी।

मेदांता में भी आजम से मिल चुके हैं अखिलेश

करीब डेढ़ साल पहले फरवरी 2020 में सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव भी आजम से मिलने जिला कारागार आ चुके हैं। मेदांता में भर्ती रहने के दौरान भी अखिलेश यादव आजम खां से मिलने पहुंचे थे। वह जब भी रामपुर जाते हैं तो आजम के परिवार से मुलाकात करते हैं। अंतिम बार 22 जनवरी 2021 को अखिलेश आजम खां की पत्नी तंजीम फातिमा से मिले थे।

आजम खां से मिलने के लिए शिवपाल खाली हाथ नहीं गए। अपने साथ खाने-पीने का सामान लेकर गए थे।
आजम खां से मिलने के लिए शिवपाल खाली हाथ नहीं गए। अपने साथ खाने-पीने का सामान लेकर गए थे।

कई मौकों पर आजम खां की तरफदारी कर चुके हैं शिवपाल

वहीं शिवपाल और आजम खां के बीच हुई मुलाकात के सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं। शिवपाल अपने साथ खाने-पीने का सामान भी ले गए हैं। आजम पर कार्रवाई को लेकर शिवपाल योगी सरकार पर निशाना भी साध चुके हैं। कई मौकों पर उन्होंने कहा है कि आजम के खिलाफ चल रही कार्रवाई बदले की भावना से प्रेरित है। भाजपा विपक्षी पार्टियों के नेताओं को इसी तरीके से फर्जी मुकदमे लगाकर परेशान कर रही है।

सियासी गलियारों में ये भी चर्चा है कि मुस्लिम समाज का एक तबका यह मानता है कि जब आजम खां को समाजवादी पार्टी की जरूरत थी, तब पार्टी उनके साथ खड़ी नहीं हुई। आजम खां की इसी नाराजगी को दूर करने के लिए उनकी पत्नी डॉ. तंजीम फातिमा के जमानत पर रिहा होने के बाद अखिलेश यादव ने उनसे मुलाकात की थी।

खबरें और भी हैं...