पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिद्धार्थनगर में पीड़ित के घर पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव:कहा-धर्म और जाति देख फैसला ले रही सरकार, हाईकोर्ट के जज की निगरानी में हो घटना की जांच

सिद्धार्थनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिद्धार्थनगर के कोड़रा ग्रांट गांव के इस्लामनगर में गोली लगने से महिला की मौत होने के बाद सियासत शुरू हो गई है। बुधवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव पीड़ित परिवार के घर पहुंचे। कहा कि हाईकोर्ट के जज की निगरानी में घटना की जांच हो तभी पीड़ित परिवार को न्याय मिल सकता है, पुलिस की जांच पर भरोसा नहीं है। सरकार धर्म और जाति के आधार पर फैसले ले रही है।

न्याय की लड़ाई में पीड़ित परिवार के साथ समाजवादी पार्टी

पूर्व सीएम ने कहा कि जौनपुर में कई ऐसी घटनाएं हुईं, यहां कस्टोडियन डेथ हुई और पुलिस ने फेक एनकाउंटर किए। इस घटना की जांच सही हो तो आरोपी जेल जाएंगे। मैं परिवार से मिलकर यह भरोसा दिलाने आया हूं कि अगर वह न्याय की लड़ाई लड़ेंगे तो समाजवादी पार्टी उनके साथ है। सदन में इस बात को रखा जाएगा। चंदौली में जब बहन की मौत हुई तो पुलिस ने कहा फांसी लगा दी गई है। चंदौली में बेटी से दुराचार करने के मामले में भी कहानी बनाने की कोशिश की गई। सपा पर जाति के आधार पर कार्य करने के आरोप लगते रहे हैं, अब बताएं कि जाति के आधार पर कौन कार्य कर रहा है, धर्म और जाति को देखकर सरकार फैसला ले रही है। इस मामले की जांच हो, यह जांच हाईकोर्ट के सिटिंग जज की निगरानी में होनी चाहिए।

सिद्धार्थनगर के कोड़रा ग्रांट गांव में घटना के संबंध में जानकारी लेते पूर्व सीएम अखिलेश यादव।
सिद्धार्थनगर के कोड़रा ग्रांट गांव में घटना के संबंध में जानकारी लेते पूर्व सीएम अखिलेश यादव।

पीड़ित परिवार का सुना दर्द

पुलिस का दावा है कि गोली तमंचे से चली है, पुलिस पर लगाए गए आरोप गलत हैं। उधर, पुलिसिया कार्यप्रणाली पर पीड़ित परिवार लगातार सवाल खड़े कर रहा है। आज दोपहर 2:45 बजे पूर्व सीएम अखिलेश यादव जिला मुख्यालय पहुंचे। इसके बाद वह पीड़ित के गांव पहुंचे। यहां वह परिवार के लोगों से मिले और उनका दर्द सुना।

घटना दुखद, भाजपा सरकार में बढ़ रहा अपराध

पूर्व सीएम ने कहा कि यह दुखद घटना हुई, जिस पुलिस पर हमें भरोसा है कि वह हमें सुरक्षा देगी, समय आने पर हमें न्याय देगी, लेकिन वहीं पुलिस जान लेने लगी है, जब से यूपी में भाजपा की सरकार आई है, पता नहीं क्या हो गया है। मैं ललितपुर गया वहां के दारोगा पर आरोप था कि उसने एक बेटी के साथ दुष्कर्म किया, भाजपा सरकार में थाने में दुराचार हुआ, चंदौली में जो जिला बदर है, उस पर भी झूठे मुकदमे दर्ज थे, जब परिवार में कुछ नहीं मिला तो परिवार को पीटा, एक बेटी को इतना पीटा कि उसकी जान चली गई।

सिद्धार्थनगर में पीड़ित परिवार के घर पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव।
सिद्धार्थनगर में पीड़ित परिवार के घर पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव।

पीड़ित परिवार से मिलने आया हूं : अखिलेश यादव

पूर्व सीएम ने कहा कि आज मैं एक परिवार से मिलने आया हूं, पुलिस दबिश देने गई, पुलिस बेटे को ले जाने लगी, मां ने रोका तो उसे गोली मार दी गई। देश में सबसे ज्यादा हिरासत में मौत केवल यूपी में हुई है, महिला आयोग ने सबसे ज्यादा नोटिस दिए तो वह यूपी सरकार को दिए, एक दूसरे मामले में पुलिस दबिश देने गई, दबिश के दौरान आरोपी नहीं मिला, पुलिस के दारोगा ने परिवार की महिला से संबंध बनाए थे। आज वह दारोगा जेल में है।

सिद्धार्थनगर में पीड़ित परिवार के घर पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव।
सिद्धार्थनगर में पीड़ित परिवार के घर पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव।

गांव में लगा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों का जमावड़ा

पूर्व सीएम अखिलेश यादव के गांव में पहुंचते ही सपा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों का जमावड़ा लग गया। व्यवस्था संभालने के लिए काफी संख्या में पुलिसकर्मी भी मौजूद रहे।

सिद्धार्थनगर में गुजरता पूर्व सीएम अखिलेश यादव का काफिला।
सिद्धार्थनगर में गुजरता पूर्व सीएम अखिलेश यादव का काफिला।

पुलिस की दबिश के दौरान हुई थी घटना

गौकशी के आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस पहुंची थी। इस दौरान गोली चलने से एक महिला की मौत हो गई थी, महिला की बेटी का 22 मई को निकाह होना है। इस बड़ी घटना से पूरा परिवार टूट गया है। दिल पर पत्थर रखकर शादी की तैयारियां चल रहीं हैं। परिवार समेत रिश्तेदार भी गम और गुस्से में हैं। वहीं, इलाके में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन की ओर से मंगलवार को कुल 9 गांवों में धारा 144 लागू कर दी गई।

घटना के बाद से आसपास के गांवों में तनाव है, शांति व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए उप जिलाधिकारी नौगढ़ के आदेश पर 17 मई से 16 जून तक धारा 144 लागू कर दी गई है। इलाके ही हर गतिविधि पर पुलिस की पैनी नजर है। अपर पुलिस अधीक्षक सुरेश चंद्र रावत ने बताया कि इलाके में सामान्य आवागमन या गतिविधि अथवा सामाजिक कार्यक्रमों पर कोई रोक नहीं रहेगी। 5 या 5 से अधिक व्यक्तियों के इकट्ठा होने पर अथवा अन्य शर्तों के उल्लंघन पर कार्रवाई की जाएगी।

सिद्धार्थनगर के कोड़रा ग्रांट गांव में गौकशी के आरोपियों को पकड़ने गई पुलिस की दबिश के दौरान गोली लगने से महिला की मौत हो गई थी। परिवार में गम का माहौल है।
सिद्धार्थनगर के कोड़रा ग्रांट गांव में गौकशी के आरोपियों को पकड़ने गई पुलिस की दबिश के दौरान गोली लगने से महिला की मौत हो गई थी। परिवार में गम का माहौल है।

पति के गांव पहुंचते ही गमगीन हो गया माहौल

मृतक महिला रोशनी के पति अकबर मंगलवार को मुंबई से गांव पहुंचे, उनके पहुंचते ही पूरा गांव जुट गया। माहौल फिर से गमगीन हो गया। लोगों ने किसी तरह उन्हें संभाला लेकिन वह बार-बार रो पड़ते थे, इसे देखकर परिवार के अन्य सदस्य भी रो पड़े। महिला के बेटे अतीकुर्रहमान ने बताया कि वह अपनी बहन राबिया की शादी तय तारीख पर ही करेंगे। किसी तरह परिवार के लोगों ने निकाह करने की हिम्मत जुटाई है।

मुकदमे में फंसाने की मिल रही धमकी

महिला के बेटे अब्दुल रहमान ने दैनिक भास्कर को बताया कि वह मुंबई में रहते हैं, उनके ऊपर पहले से कोई मुकदमा दर्ज नहीं है। इसके बावजूद पुलिस उन्हें पकड़ने के लिए पहुंची थी, घटना के बाद से उन्हें काफी धमकियां मिल रहीं हैं, मुकदमे में फंसाने की बात कही जा रही है। इससे वे काफी तनाव में हैं।

पुलिस की दबिश के दौरान हुई महिला की मौत के बाद से उसका बाद अकबर (बीच में) बार-बार बेसुध हो जा रहा है।
पुलिस की दबिश के दौरान हुई महिला की मौत के बाद से उसका बाद अकबर (बीच में) बार-बार बेसुध हो जा रहा है।

बेटे को छुड़ाने के चक्कर में गई मां की जान

कोड़रा ग्रांट गांव के इस्लामनगर में रोशनी (50) रहती थीं। उनके तीन बेटे अतीकुर्रहमान, अब्दुल रहमान और फारुख जीवन यापन के लिए मुंबई में रहते हैं। 22 मई को रोशनी की बेटी राबिया की शादी होनी है, समारोह में शामिल होने के लिए 9 मई को मुंबई से परिवार गांव पहुंचा था। परिजनों के मुताबिक 14 मई की रात करीब 10 बजे पुलिस और एसओजी की टीम उनके घर पहुंची। घर में सो रहे अब्दुल रहमान को अपने साथ लेकर जाने लगी। इस बीच बेटे की आवाज सुनकर मां रोशनी भी पहुंच गईं। बेटे को बेगुनाह बताते हुए वह विरोध जताने लगीं और बेटे से लिपट गईं। इस बीच संदिग्ध हालात में गोली चलने से उनकी मौत हो गई। घटना के बाद गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई थी।

पीड़ित अतीकुर्रहमान के घर के बाहर गांव वाले इकट्ठा हैं। पुलिस पर हत्या का आरोप लगाते हुए भीड़ उग्र हो जा रही है।
पीड़ित अतीकुर्रहमान के घर के बाहर गांव वाले इकट्ठा हैं। पुलिस पर हत्या का आरोप लगाते हुए भीड़ उग्र हो जा रही है।

पुलिस की कहानी ने लिया यू-टर्न

घटना के बाद चारों ओर फजीहत होने पर अचानक पुलिस की कहानी ने यू-टर्न ले लिया। बताया गया कि पुलिस की गोली से महिला की मौत नहीं हुई है। एसपी यशवीर सिंह ने बताया था कि सोमवार को जितेंद्र यादव को पकड़ा गया। उसके कब्जे से 315 बोर की एक पिस्तौल और कारतूस बरामद किया गया। वह गौ तस्करों से वसूली करता था। शनिवार को गौकशी के आरोपियों को पकड़ने पहुंची पुलिस टीम का कुछ लोग विरोध जता रहे थे, इस बीच जितेंद्र ने गोली चला दी थी। आशंका है कि उसी की गोली से महिला की जान चली गई।

पूर्व सीएम के आगमन को लेकर जारी किया गया कार्यक्रम।
पूर्व सीएम के आगमन को लेकर जारी किया गया कार्यक्रम।
खबरें और भी हैं...