पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इटवा के भनवापुर ब्लाक सुकालाजोत में भागवत कथा:कथावाचक बोले-भागवत सुनने मात्र से ही हो जाता है जीव का कल्याण

इटवा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इटवा के भनवापुर ब्लाक के सुकालाजोत गांव में श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया गया। पहले दिन कथावाचक शास्त्री विपिन दूबे ने भागवत कथा के महात्म्य का सुंदर वर्णन करते हुए भक्तों को इसका श्रवण कराया।

उन्होंने कहा कि कथा सुनने मात्र से ही जीव का कल्याण होता है। कथावाचक ने कहा कि श्रीमद्भगवत कथा में लिखा है जिसके करोड़ों-करोड़ों जन्मों के पुण्य एकत्रित हो जाते हैं वो व्यक्ति भागवत कथा सुनता है। भागवत को सुनने का फल है ये भागवत कल्प वृक्ष है।

कहा कि आप जिस मनोरथ के साथ श्रीमद्भागवत कथा श्रवण करेंगे आपके उस मनोरथ की सिद्धि होगी आप अगर निर्धन है, धन की इच्छा लेकर सुनेंगे तो धनवान होंगे। निरोगी काया की इच्छा लेकर अगर कथा सुनेंगे तो निरोगी काया प्राप्त होगी। व्यास जी ने जब इस भगवत प्राप्ति का ग्रंथ लिखा, तब भागवत नाम दिया गया।

इसे श्रीमद् भागवत नाम दिया गया। इस श्रीमद् शब्द के पीछे एक बड़ा मर्म छुपा हुआ है, यानी जब धन का अहंकार हो जाए तो भागवत सुन लो, अहंकार दूर हो जाएगा। व्यक्ति इस संसार से केवल अपना कर्म लेकर जाता है। इसलिए अच्छे कर्म करो। भाग्य, भक्ति, वैराग्य और मुक्ति पाने के लिए भगवत की कथा सुनो।

केवल सुनो ही नहीं बल्कि भागवत की मानों भी। सच्चा हिन्दू वही है जो कृष्ण की सुने और उसको माने, गीता की सुनो और उसकी मानों भी, माता-पिता, गुरु की सुनो तो उनकी माने भी तो आपके कर्म श्रेष्ठ होंगे और जब कर्म श्रेष्ठ होंगे तो आप को संसार की कोई भी वस्तु कभी दुखी नहीं कर पायेगी।

इस अवसर पर आयोजक भीखू यादव, इन्नी बाबा, अर्पित, हीरालाल, पंकज दूबे, अजीत श्रीवास्तव, आशु,सरूफ, फुल्लूर यादव समेत बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...