पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शामली में सांड के हमले से वृद्ध की मौत:घर से टहलने के लिए निकले थे महेशवीर, गली में खड़े सांड ने उठाकर पटका

शामलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शामली जिले के कांधला थाना क्षेत्र के गांव नाला में एक 65 वर्षीय वृ्द्ध की जान ले ली। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस और परिजन मौके पर पहुंचे। वहीं परिजनों ने स्थानीय अधिकारियों पर शिकायत सुनने के बाद भी लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। तो वहीं मृतक के परिजनों ने कोई भी कानूनी कार्रवाई करने से इंकार कर दिया है। पुलिस ने मामले में पीड़ित के दिए गए प्रार्थना पत्र के अनुसार कार्रवाई शुरू कर दी है।

घर से बाहर टहलने के लिए निकले थे वृद्ध

गांव नाला निवासी 65 महेशवीर पर आवारा घूम रहे सांड ने हमला कर दिया। हमले में वृद्ध को गंभीर चोटें आईँ, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। महेशवीर के परिजनों ने बताया कि रोज की भांति वह घर से बाहर टहलने के लिए निकले थे। गली में खड़े सांड ने बुजुर्ग को उठाकर जमीन में पटक दिया। हमले में बुजुर्ग को गंभीर चोटें आईँ और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। वृद्ध की चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग दौड़ पड़े। लाठी-डंडे लेकर आवारा सांड को मौके से भगा दिया। वृद्ध महेश वीर को गांव के प्राइवेट डॉक्टरों को दिखाया। जहां पर डॉक्टर ने महेशवीर को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। मृतक वृद्ध महेशवीर की मौत को लेकर परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

विलाप करते परिजन।
विलाप करते परिजन।

पहले भी हो चुकी कई घटनाएं

शामली शहर के निवासी सत्यनारायण पर भी सांड ने हमला कर दिया था जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी। नाला गांव में करीब इस तरह की दर्जन भर घटनाएं हो चुकी हैं। इन घटनाओं में कई लोग घायल भी हो चुके हैं। कई बार तो जब किसान अपनी फसल को बचाने के लिए खेत पर जाते हैं तो उन पर आवारा पशु हमला कर देते हैं, जिससे वह घायल हो जाते हैं।

मृतक का फाइल फोटो।
मृतक का फाइल फोटो।

ग्रामीणों का आरोप, नहीं हो रहे उचित इंतजाम

ग्रामीणों का आरोप है कि कई बार घटनाएं होने पर उन्होंने अधिकारियों से शिकायत भी की लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। सरकार आवारा पशुओं को पकड़वाने के लिए कोई इंतजाम नहीं कर रही है। किसान दिन रात जाग कर अपनी फसल को बचाते हैं। वहीं मौका पाते ही पशु फसल को चट कर जाते हैं। योगी सरकार ने वादा किया था सरकार बनते ही आवारा पशुओं का उचित प्रबंध किया जाएगा। लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका।