पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60430.55-0.53 %
  • NIFTY18038.1-0.41 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47943-0.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61414-0.3 %

शामली में बदहाली में जी रहे कैराना के लोग:मुजफ्फरनगर दंगे के बाद आकर बसे थे 100 परिवार, बस्तियों का नहीं किया गया विकास

शामली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शामली में गांव में कच्ची नालियों व सड़कों से परेशान हैं लोग। - Money Bhaskar
शामली में गांव में कच्ची नालियों व सड़कों से परेशान हैं लोग।

शामली में मुजफ्फरनगर दंगे के बाद कई परिवार कैराना से आकर बसे थे। जिनसे नेताओं ने चुनावी वादे करके वोट तो ले लिया। लेकिन उनकी बस्तियों में विकास व सुधारकार्य कभी नहीं करवाया। जिसके चलते वह बदहाली की जिन्दगी जीने को मजबूर हैं। न ही पक्के रास्ते हैं न ही पक्के मकान बने हैं।

100 परिवारों के हैं कुल 400 वोट

जिले के झिंझाना मार्ग पर स्थित नाहिद कॉलोनी में 2013 में मुजफ्फरनगर दंगे में विस्थापित हुए कैराना के 100 परिवार आकर बस गए थे। यहां 100 परिवारों के कुल 400 वोट हैं। दंगे के 8 साल बीत जाने के बाद भी यहां रहने वालों की स्थिति दैयनीय बनी हुई है। यहां दो बार से नाहिद हसन समाजवादी पार्टी के विधायक हैं। जो केवल चुनावी वादे करके इन परिवारों से वोट लेते हैं।

गांव में हैं कच्चे रास्ते व कच्चे नालियां

वहां की निवासी एक महिला ने बताया कि गांव में न तो उन लोगों के पक्के मकान हैं, न ही पक्की सड़कें हैं। गांव में साफ-सफाई करने के लिए भी कोई नहीं आता है। जिससे गंदगी का अंबार लगा रहता है। यहां लोग झुग्गी- झोपड़ी डालकर रहते है।