पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संभल में स्वास्थ्य विभाग कोरोना से लड़ने को तैयार:तीन L 1 और दो L 2 हॉस्पिटल तैयार, डीएम कर रहे कोविड सम्बंधित तैयारियों की निगरानी

संभल5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संभल में बनाया गया कोविड हॉस्पिटल - Money Bhaskar
संभल में बनाया गया कोविड हॉस्पिटल

कोरोना की दस्तक के बाद संभल के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के लिए होने वाले विशेष खतरे से निपटने के लिए तैयारी कर ली है। संभल जिला अस्पताल में L2 लेवल का पीकू वार्ड बनाया गया है जिसमें 28 बेड मौजूद है। जिला अस्पताल के पीकू वार्ड में मरीजों के लिए तैयार किए गए बेड पर वेंटिलेटर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी लगाए गए है। वही डीएम संजीव रंजन भी स्वास्थ्य महकमे की तैयारियो की निगरानी में लगे है।

12 दिनों में मिले 274 मरीज

देशभर में कोरोना के लगातार मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है वहीं संभल जनपद में भी पिछले 12 दिन में 274 मरीज कोरोना पॉजिटिव मिले है। लेकिन कोरोना की तीसरी लहर पीक पर पहुंचने से पहले संभल जिले का स्वास्थ्य महकमा हालातों से निपटने के लिए तैयारियों में जुटा हुआ है। कोरोना के जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ मनोज चौधरी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की तरफ से सीएचसी चंदौसी,असमोली और कैला देवी सीएचसी को एल 1 कोविड-19 बनाया गया है।

28 बेड का बना पीकू वार्ड

जहाँ हल्के लक्षण वाले मरीजो को भर्ती किया जाएगा।वहीं दूसरी तरफ जिला संयुक्त चिकित्सालय संभल और सीएचसी नरौली को एल 2 कोविड हॉस्पीटल बनाया गया है। जिला संयुक्त चिकित्सालय में 28 बेड का पीकू वार्ड तैयार किया गया है। कोरोना के तेज लक्षण वाले मरीजो को जरूरत पड़ने पर एल 2 हॉस्पिटल में भर्ती किया जाएगा। अस्पताल में तैयार किए गए पीकू वार्ड में आधा दर्जन बेड पर वेंटिलेटर के साथ ही ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी लगाए गए हैं। जिससे कि जरूरत पड़ने पर मरीज को वेंटिलेटर भी लगाया जा सके। वहीं जिला अस्पताल की कार्यवाहक सीएमएस डॉ रंजना सिंह ने बताया कि उच्च अधिकारियों के निर्देश अनुसार जिला अस्पताल में बनाए गए पीकू वार्ड की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है और अब पीकू वार्ड पूरी तरह से रनिंग पोजीशन में है।

पिछले दिनों जिला अस्पताल में हुई थी मॉक ड्रिल

कोविड- की तीसरी लहर को देखते हुए पिछले दिनों संभल जिला संयुक्त चिकित्सालय में सीएमओ डॉक्टर अजय सक्सेना और जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ मनोज चौधरी की निगरानी में कोरोना की मॉक ड्रिल की गई थी। जहां मॉक ड्रिल के दौरान मरीज को सपोर्ट से जिला अस्पताल लेकर पहुंचने वाली एंबुलेंस से मरीज के अस्पताल में दाखिल होने की बाद से वार्ड के बेड तक पहुंचने की स्टेप बाय स्टेप प्रक्रिया को चेक किया गया था और मरीज को उपचार देने का रिस्पांस टाइम भी चेक किया गया था जिससे कि कोविड के मरीजों की संख्या एक साथ बढ़ने पर कर्मचारी कंज्यूज न हो सके।

जरूरी व्यवस्थाएं पूरी करने के निर्देश

डीएम संजीव रंजन ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए सीएमओ को सभी जरूरी व्यवस्थाएं पूरी करने के निर्देश दिए हैं। इसी के साथ समय समय पर स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ कोरोना के खतरे को देखते हुए बैठक करके जरूरी निर्देश दिए गए हैं। फिलहाल जनपद में एल 1 कैटिगिरी के तीन और एल 2 कैटिगिरी के दो अस्पताल बनाये गए है। अस्पतालों में सभी जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई गई है। लेकिन इसी के साथ लोगों से भी अपील है कि वह सावधानी बरतें और मास्क व सैनिटाइजर का प्रयोग करें। इसके अलावा भीड़भाड़ वाले इलाकों पर जाने से लोग बचे और नाइट कर्फ्यू का पालन किया जाए।

खबरें और भी हैं...