पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

YOGI के गर्दन काटने के बयान पर सपा का पलटवार:सभंल में विधायक इकबाल महमूद ने कहा- घृणा की राजनीति कर रहे CM, अटल बिहारी वाजपेयी से भी कुछ नहीं सीखा

संभल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा हिन्दू विरोधी तत्वों के द्वारा विश्वास नहीं करने और गर्दन काटकर रखने वाले बयान पर पूर्व कैबिनेट मंत्री मौजूदा विधायक नवाब इकबाल महमूद ने प्रतिक्रिया दी है। समाजवादी पार्टी के उप नेता विपक्ष नवाब इकबाल महमूद ने सीएम के बयान को पूरी तरह से गलत बताते हुए पलटवार किया है। बता दें कि सीएम योगी ने एक कार्यक्रम में कहा था कि, हिंदू विरोधी तत्व पहले भी मुझ पर भरोसा नहीं करते थे, और आगे भी नहीं करेंगे। अगर मैं अपनी गर्दन काटकर ऐसे लोगों के सामने प्लेट में रख दूं तो भी इन्हें मुझ पर यकीन नहीं होगा.

सपा ने बयान की निंदा की

इकबाल महमूद ने कहा कि मुख्यमंत्री का यह बयान पूरी तरह से गलत है। कोई भी पार्टी किसी समुदाय के विरुद्ध ऐसा कोई बयान नहीं दे सकती है। किसी व्यक्ति विशेष के बारे में तो कहा जा सकता है लेकिन किसी जाति या बिरादरी के बारे में कोई ऐसी राय नहीं रखता।

विधायक ने लगाए आरोप

विधायक नवाब इकबाल महमूद ने कहा कि कोई इंसान अगर कुछ करके कहे। उन्होंने उल्टे हमारी ही गर्दन काटी है। लेकिन अब वक्त आ गया है जनता वोट के जरिए घृणा और भेदभाव की राजनीति करने वालों को जवाब देगी। वहीं इकबाल महमूद ने कहा कि हम हिंदू विरोधी क्यों होंगे। हमारी पार्टी का नेता जो कि पार्टी का अध्यक्ष है वो हिंदू है। वह लोग इस बात को इसलिए कह रहे हैं। जिससे कि वह लोग हिंदू लोगों को खुश कर सके। वहीं विधायक नवाब इकबाल महमूद ने कहा कि मुख्यमंत्री की पार्टी के नेता रहे अटल बिहारी वाजपेयी से भी उन्होंने कुछ नहीं सीखा है।

इकबाल महमूद ने सीएम के 80 और 20 वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि यह आप देखेंगे कि जब हमारी तरफ 60 होंगे और उनकी तरफ 40 होंगे.

यह दिया था सीएम योगी ने बयान

बीते शनिवार को दो दिवसीय दूरदर्शन कॉन्कलेव के समापन के अवसर 'कितना बदला यूपी' कार्यक्रम में सीएम योगी ने कहा था कि, हिंदू विरोधी तत्व पहले भी मुझ पर भरोसा नहीं करते थे, और आगे भी नहीं करेंगे। अगर मैं अपनी गर्दन काटकर ऐसे लोगों के सामने प्लेट में रख दूं तो भी इन्हें मुझ पर यकीन नहीं होगा. सीएम ने यह भी कहा था कि, आगामी चुनाव 80 बनाम 20 का होगा । मतलब की 20 फीसदी समर्थकों के साथ विपक्षियों को संतोष करना होगा । जबकि 80 फीसदी सकारात्म ऊर्जा के साथ भाजपा आगे बढ़ेंगी ।