पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो साल से वीजा खत्म, प्रशासन सोया रहा:संभल में 2 साल से गुपचुप तरीके से रह रहा था श्रीलंका का नागरिक, 32 साल पहले आया, पैन और आधार कार्ड भी बनवाए

संभल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने दो साल से बिना वीजा के रह रहे श्रीलंका के नागरिक पर दर्ज किया मुकदमा। - Money Bhaskar
पुलिस ने दो साल से बिना वीजा के रह रहे श्रीलंका के नागरिक पर दर्ज किया मुकदमा।

संभल जिले के नखासा थाना इलाके में रह रहे श्रीलंका के नागरिक पर वीजा खत्म होने के बावजूद 2 साल से भारत में गुपचुप तरीके से रह रहा था। उस पर धोखाधड़ी और जालसाजी सहित कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। वहीं बताया गया है कि 32 साल पहले टूरिस्ट वीजा कर आधार पर वह चेन्नई के रास्ते भारत आया था।
पैन कार्ड और आधार कार्ड तक हासिल किए
पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्रा ने बताया कि संभल में पिछले 30 साल से रह रहे श्रीलंका के निवासी नागरिक अब्दुल कादिर नजीर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अब्दुल कादिर नजीर का कोरोना के कारण वीजा एक्सटेंड नहीं हो पाया था। इसके लिए एंबेसी से भी संपर्क किया गया था। जांच के दौरान जानकारी मिली कि उसके द्वारा भारतीय पैन कार्ड, आधार कार्ड सहित दस्तावेज हासिल किए गए हैं। इस मामले में आरोपी अब्दुल कादिर नजीर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उसको गिरफ्तार करके जेल भेजा जा रहा है।
संभल में क्लीनिक संचालित करता है आरोपी
मामला नखासा थाना इलाके का है। यहां के लोधी सराय निवासी अब्दुल कादिर मोहम्मद नजीर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। थाने में तैनात दरोगा सुशील कुमार ने आरोपी अब्दुल कादिर नजीर के खिलाफ आईपीसी की धारा 14, 420, 467,468 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।
पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा
दरअसल, बीते दिनों अब्दुल कादिर की पत्नी राणा परवीन ने उच्च अधिकारियों से अब्दुल कादिर का वीजा खत्म होने की शिकायत की थी। साथ ही भारत में रहने के मामले और भारतीय दस्तावेज हासिल करने को लेकर भी बात कही थी। पुलिस जांच में मामले के तथ्य सही पाए गए। पुलिस ने आरोपी अब्दुल कादिर मोहम्मद नजीर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
चेन्नई के रास्ते आया था भारत
अब्दुल कादेर नजीर पर आरोप है कि वह 32 साल पहले चेन्नई के रास्ते टूरिस्ट वीजा पर भारत आया था। इसके बाद से वह संभल में रह रहा था। साल 1997 में संभल की लड़की से शादी कर ली थी। इसके बाद से वह संभल में एक क्लीनिक चला रहा था। वर्ष 2019 में 31 दिसंबर को वीजा खत्म होने के बावजूद अब्दुल कादिर ने वीजा के लिए आवेदन नहीं किया। उसके बाद से वह गुपचुप तरीके से भारत में ही रह रहा था।
खुफिया विभाग कर रहा था जांच
मामले की जानकारी संभल जिले के खुफिया विभाग के अफसरों को दी गई थी। इसके बाद से संभल के खुफिया विभाग के अधिकारी भी जांच पड़ताल में जुटे थे।

खबरें और भी हैं...