पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेलवे स्टेशन पर कोरोना संक्रमण की मार:सहारनपुर से बाहर जाने वालों की संख्या घटी, शुक्रवार को स्टेशन पर पसरा रहा सन्नाटा

सहारनपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खाली पड़ा हुआ सहारनपुर रेलवे स्

सहारनपुर में कोरोना की तीसरी लहर का खौफ दिखाई देने लगा है। रेलवे स्टेशन पर सन्नाटा पसरा हुआ है। ट्रेनों का आवागमन भी कम हुआ है। दर्जनों ट्रेन करीब दो माह पहले से ही निरस्त है। प्रतिदिन कोरोना के बढ़ते ग्राफ के कारण रेल यात्रियों ने ट्रेनों में सफर करने से किनारा कर लिया है। हां, रोडवेज बसों की चहल-पहल ज्यादा दिखाई दे रही है। वहीं बाजारों में कोरोना खौफ दिखाई नहीं दे रहा है। व्यापारी, दुकानदार और लोग बिना मास्क के साथ सोशल डिस्टेंसिंग दिखाई नहीं दे रही है।

ट्रेनों में घटा यात्रियों का सफर

खाली टिकट विंडो
खाली टिकट विंडो

कोरोना काल से पहले सहारनपुर रेलवे स्टेशन से करीब 20 से 25 हजार यात्री सफर करते थे। लेकिन मार्च 2020 से कोरोना संक्रमण के कारण लगे दो माह लॉकडाउन से यात्रियों की संख्या शून्य हो गई थी। बाजार, दुकान यहां तक लोगों के सड़क पर चलने तक पाबंदी लगी हुई थी। लेकिन पहले लॉकडाउन के बाद ट्रेने पटरियों पर उतरी तो यात्रियों की संख्या करीब 5 से 7 हजार तक पहुंच गई थी। लेकिन दूसरी लहर के लॉकडाउन से फिर वहीं स्थिति बनी। दूसरी लहर खत्म होने पर फिर से रेल यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ। लेकिन इस बार संख्या अधिक दिखाई दी और लोगों के साथ सरकार और प्रशासन के लोग भी लापरवाह दिखाई दिए।

करीब डेढ़ माह से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने से एक बार फिर से रेलवे स्टेशन पर सन्नाटा दिखाई देने लगा है। शुक्रवार को सुबह से लेकर शाम तक 300 से लेकर 700 जनरल टिकटों की बिक्री हुई। स्टेशन पर ट्रेनें भी दिखाई नही दी। रेल यात्रियों ने तीसरी लहर के संकेत के साथ ही ट्रेनों में सफर करने से परहेज करना शुरू कर दिया है।

यात्रियों की हो रही जांच

रेलवे स्टैशन पर कोरोना की जांच करता स्वास्थ्य कर्मचारी
रेलवे स्टैशन पर कोरोना की जांच करता स्वास्थ्य कर्मचारी

सहारनपुर में आने और जाने वाले रेल यात्रियों की जांच हो रही है। जिसके लिए स्टेशन पर एक काउंटर बनाया हुआ है। रेलवे स्टेशन में एंट्री से पहले और ट्रेन से आने वाले यात्रियों की भी जांच काउंटर पर होती है। वहीं स्टेशन से करीब 200 मीटर दूर रोडवेज बस स्टैंड पर भी कोरोना की जांच के लिए काउंटर लगाया हुआ है। यहां पर यात्रियों की कोरोना की जांच की जा रही है। एंटीजन और RT-PCR से जांच हो रही है।

जनशताब्दी भी खाली
रेलवे अधिकारियों का कहना है कि ट्रेनों के एसी कोच और आरक्षण सीट न के बराबर भर रही है। लोगों ने खुद से यात्रा से परहेज करना शुरू कर दिया है। वहीं सर्दियों के कारण एक दर्जन से ज्यादा ट्रेन रद होने के कारण भी रेलवे स्टेशन पर भीड़ दिखाई नहीं दे रही है। हालांकि पैसेंजर्स ट्रेनों में यात्री दिखाई दे रहे हैं। लेकिन कुछ पैसेंजर्स ट्रेन भी रद पहले से रद है।

स्टेशन अधीक्षक कपिल शर्मा का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर के कारण यात्रियों ने ट्रेनों में यात्रा करने से दूरी बना ली है। यात्री टिकटों की बिक्री भी कम हो रही है। यहीं कारण रेलवे स्टेशन पर सन्नाटा दिखाई दे रहा है।

खबरें और भी हैं...