पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टूटे पुल की सुध लेने वाला कोई नहीं:50 लाख की पहली किस्त आने के बाद भी शुरू नहीं हुआ निर्माण कार्य, नया पुल बनने के लिए 629 लाख रुपये हुए थे मंजूर

सहारनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टूटा हुआ पुल - Money Bhaskar
टूटा हुआ पुल

सहारनपुर में अंग्रेजी शासन काल में 1837 बना पुल का एक पिलर 22 मई 2021 को टूट गया था। यह पुल पावेल नाम के एक अंग्रेजी अधिकारी ने बनवाया था। एक साल पूरे होने के बाद भी कोई भी सुध लेने वाला नहीं है। खास बात है कि शासन से 31 मार्च 2022 को पुल निर्माण के लिए 629.09 लाख रुपये की स्वीकृति भी मिल गई थी। निर्माण कार्य शुरू कराने के लिए पहली किस्त 50 लाख रुपये भी जारी कर दिए गए थे।

लेकिन अभी तक पुलिस का निर्माण शुरू नहीं हो सका है। पुल का निर्माण अधर में लटका होने के कारण स्मार्ट सिटी के लोगों को जाम से जूझना पड़ता है। इस पुल का निर्माण कार्यदायी संस्था उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम द्वारा कराया जाना है।

84 साल बाद टूटा पुल
अंग्रेज अफसर पावेल ने 84 साल पहले ढमोला नदी पर एक पुल बनाया था। जिसे पावेल ब्रिज के नाम से जाना जाता था। लेकिन 22 मई 2021 को उसका एक पिलर टूट गया। जिस कारण पुल पर दोपहिया वाहनों का आवागमन बाधित हो गया। यह पुल पुराने समय में पुराने शहर को नए शहर से जोड़ता था। जब यह लोहे का पुल जर्जर अवस्था में हुआ तो करीब दो दशक पहले इसके बराबर में एक पुल बनाया गया।
यह पुल दोपहिया वाहनों के आवागमन के लिए था। पुल को टूटे हुए एक साल हो चुके हैं। लेकिन अभी नया पुल नहीं बनाया जा सका है। जबकि शासन से पुल निर्माण के लिए 629.09 लाख रुपये की मंजूरी भी मिल गई है। पुल का निर्माण शुरू करने के लिए दो माह पूर्व 50 लाख रुपये की पहली किस्त भी आ चुकी है।

अप्रैल माह में शुरू होना था कार्य
2021-22 वित्तीय वर्ष के अंतर्गत पुल निर्माण के लिए शासन से पहली किस्त 50 लाख रुपये जारी हो चुकी है। अप्रैल माह में पुल का निर्माण शुरू होना था। लेकिन अभी तक पुल के निर्माण को लेकर कोई भी अधिकारी गंभीर दिखाई नहीं दे रहा है। ऐसे में स्मार्ट सिटी के लोगों को ट्रेफिक सिस्टम भी भारी पड़ रहा है। एक ओर सीसीटीवी के माध्यम से चालान किये जा रहे हैं, वहीं जाम से जूझना पड़ता है।

पुल बनने से यह होगा लाभ
सहारनपुर नगर में विश्वकर्मा चौक, जो कि पेपर मिल रोड़ से नागल जाने वाले मार्ग, सिविल हॉस्पिटल मार्ग, हकीकत नगर मार्ग, दीवानी न्यायालय मार्ग एवं देहरादून जाने वाले मार्ग पर स्थित है। यह मार्ग शहर के विशिष्ट मार्गो की श्रेणी में आता है। पुल की लंबाई 59.81 मीटर और चौड़ाई 8.400 मीटर होगी। रोड-वे 7.50 मीटर बनाई जानी है।

ट्रेफिक सिस्टम में आएगा सुधार
स्मार्ट सिटी में ट्रेफिक सिस्टम को सुधारने के लिए करीब 50 जगह पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। मुख्य चौराहों और तिराहों पर रेड लाइट भी लगाई गई है। हालांकि महानगर के लोग अभी ट्रेफिक सिस्टम में ट्रायल पर है। लोगों को अनाउंसमैंट कर जागरूक किया जा रहा है। जेबरा लाइन से लेकर कट, गलत साइट, बिना हैल्मेट को लेकर कंट्रोल रूम से नजर रखी जा रही है। यदि इस पुल का निर्माण हो जाता है तो ट्रेफिक सिस्टम भी सुधर जाएगा।

खबरें और भी हैं...