पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57696.46-1.31 %
  • NIFTY17196.7-1.18 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47361-0.07 %
  • SILVER(MCX 1 KG)606850.05 %

सहारनपुर...गोबर से बने दीयों से जगमगाएगा नगर निगम:गोबर के दीयों से प्रदूषण मुक्त होगी दीपावली, नगर निगम कान्हा गोशाला में बनवा रहा एक लाख दीपक

सहारनपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कान्हा उपवन में निरीक्षण करते - Money Bhaskar
कान्हा उपवन में निरीक्षण करते

सहारनपुर का नगर निगम इस बार गाय के गोबर से बने दीयों से जगमगाएगा। निगम कान्हा उपवन गोशाला में एक लाख दीए तैयार करवा रहा है। जिन्हें नगर निगम परिसर, दिल्ली रोड तथा शहर के विभिन्न स्थानों पर स्टॉल लगाकर शहर के लोगों को उपलब्ध कराया जाएगा। इसका उद्देश्य लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत करना और स्वास्थ्य वातावरण तथा प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाना है।

गोबर के महत्व से करायेंगे अवगत
शनिवार को नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह कान्हा गोशाला उपवन का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने गोबर से बने दीयों का अवलोकन किया। नगरायुक्त ने बताया कि दीपावली पर विभिन्न प्रकार के प्रदूषण से बचाव के लिए नगर निगम शहर में इकोफ्रेंडली दीपावली मनवाने की दिशा में यह प्रयास कर रहा है। इसका उद्देश्य लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत करना और स्वस्थ वातावरण तथा प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ गाय और गोबर के महत्व से लोगों को अवगत कराना है। गाय के गोबर से निर्मित दीयों की लौ से निकले धुएं से कीटाणु और मच्छर दूर भागते हैं और वातावरण शुद्ध होता है। उन्होंने कहा कि लक्ष्मी पूजन में भी गोबर से निर्मित दीयों के उपयोग का काफी महत्व माना जाता है।

इकोफ्रेंडली रंगों से रंगे जा रहे दीए
दीयों को आकर्षक बनाने के लिए उन्हें विभिन्न इकोफ्रेंडली रंगों से रंगा जा रहा है। आगामी वर्षों में यह संख्या कई गुणा अधिक रहेगी। नगरायुक्त ने बताया कि गाय का गोबर मोबाइल के रेडिएशन से भी लोगों को बचा सकता है। ताजा गोबर सात दिन तक रेडिएशन से सुरक्षा कर सकता है। नगरायुक्त ने लोगों से आह्वान किया कि वह वातावरण को पवित्र करने और प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने के लिए गाय के गोबर से निर्मित दीयों का उपयोग करें और इकोफ्रेंडली दीपावली मनाएं। उन्होंने बताया कि निगम की गोशाला में गोमूत्र से गोनाईल नाम से बनाए जा रहे फिनाइल, गोबर से निर्मित जैविक खाद आदि भी उक्त स्टॉलों पर बिक्री के लिए उपलब्ध रहेगा।

खबरें और भी हैं...