पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर निगम ने पशु मंडी का ठेका निरस्त किया:81 लाख का था पशु मंडी का ठेका, तीन दिन के भीतर खुली नीलामी होगी

सहारनपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम में कार्यकारिणी की बैठक लेते महापौर संजीव वालिया - Money Bhaskar
नगर निगम में कार्यकारिणी की बैठक लेते महापौर संजीव वालिया

सहारनपुर नगर निगम आय बढ़ाने के लिए अधिकारी संभावनाएं तलाश रहे हैं। निगम की कार्यकारिणी ने शुक्रवार को पशु मंडी का 81 लाख रुपये का ठेका निरस्त कर दिया है। अब यह ठेका खुली नीलामी में तीन दिन के भीतर होगा। निगम की आय बढ़ाने के लिए यह ठेका निरस्त किया गया है। यहीं नहीं स्लाटर हाउस को से किस प्रकार आय बढ़े इसकी भी योजना बनाई जा रही है।

22 जून को कार्यकारिणी की बैठक हो गई थी निरस्त
नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक 22 जून को चर्चा पूरी नहीं हुई थी। जिस कारण शुक्रवार को कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई। मेयर संजीव वालिया में आयोजित बैठक में पशु मंडी, स्लाटर हाउस, वैडिंग जोन और कर्मचारियों की पदोन्नति आदि की पत्रावलियों का अवलोकन किया। कार्यकारिणी सदस्यों ने अधिकारियों के समक्ष अनेक प्रश्न उठाए। जिनका नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह, अपर नगरायुक्त राजेश यादव, मुख्य अभियंता निर्माण कैलाश सिंह, सदन प्रभारी दिनेश यादव, मुख्य लेखा परीक्षक अजय कुमार, लेखाधिकारी राजीव कुशवाहा, निगम के पशु चिकित्साधिकारी डॉ.संदीप मिश्रा, कर अधीक्षक विनय शर्मा, सहायक अभियंता दानिश नकवी आदि ने जवाब दिए।

कर्मचारियों की पदोन्नति पर उठाए सवाल
मेयर संजीव वालिया ने कर्मचारियों की पदोन्नति किस आधार पर की गई है? उसकी आधार सूची सदन प्रभारी को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। वैडिंग जोन निर्धारित करना किसका अधिकार है, इस संबंध में आशुतोष सहगल ने प्रश्न उठाते हुए शासन से आए एक पत्र का उल्लेख किया। जिस पर सदन प्रभारी दिनेश यादव ने बताया कि वैडिंग जोन निर्धारित करने का अधिकार टाउन वैडिंग कमेटी को है। मेयर वालिया, आशुतोष सहगल, मुकेश गक्खड़ का कहना था कि नगर निगम बोर्ड वैडिंग जोन के प्रस्ताव रद्द कर चुका है।

नगर निगम बोर्ड की बिना अनुमति के नगर निगम की भूमि पर वैडिंग जोन बनाए गए है। नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह व सदन प्रभारी दिनेश यादव ने बताया कि जो भी वैडिंग जोन बने हैं, वह न तो नगर निगम की भूमि पर है और न ही उसमें नगर निगम से कोई धन व्यय हुआ है। इनके सौंदर्यीकरण पर डूडा का धन व्यय हुआ है।

कैसे बढ़े स्लाटर हाउस से आय?
नगर निगम की स्लाटर हाउस से आय कैसे बढ़ाई जाए, इस पर भी कार्यकारिणी में गंभीरता से मंथन हुआ। मेयर संजीव वालिया व नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने निगम के पशु चिकित्साधिकारी डॉ.सदीप मिश्रा को निर्देश दिया कि वह एक सप्ताह के भीतर इस संभावना के साथ एक नीति बनाकर प्रस्तुत करें। पार्षद मुकेश गक्खड़ ने जुबली पार्क में पेड़ काटने का मुद्दा उठाया। जिस पर सहायक अभियंता दानिश नकवी ने बताया कि वहां 111 पेड़ थे, जिनमें से 61 पेड़ वहां अभी भी खड़े हैं और काटे गए पेड़ अनुपयोगी और झाड़-झंखाड़ थे।

पांच दिन में सफाई कर्मचारियों की भर्ती की मांग
पार्षद अभिषेक अरोड़ा टिंकू ने जीएम पोर्टल से सफाई कर्मचारियों की भर्ती 5 दिन के भीतर कराने की मांग की। पार्षद अनिल पप्पू ने अपने क्षेत्र के श्मशानों में शेड बनवाने, पार्षद पिंकी गुप्ता ने नुमाइश कैंप रोड़ पर और अधिक हरित पट्टियां बनवाने, विजय कालड़ा ने नुमाइश कैंप के दोनों ऐतिहासिक द्वारों का सौंदर्यीकरण कराने की मांग की। पार्षद मीनाक्षी, भूरा सिंह प्रजापति, कंचन धवन, मनोज जैन आदि ने भी सुझाव दिए।

खबरें और भी हैं...