पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

देवबंद में अब जरुरतमंदों का होगा निःशुल्क इलाज:10 रुपये के हिसाब से प्रतिदिन मिलेगी दवा, सामाजिक संगठन ख्वाजा गरीब नवाज फाउंडेशन लगाएगी गांव-गांव में कैंप

देवबंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देवबंद के सामाजिक संगठन ख्वाजा गरीब नवाज फाउंडेशन चैरिटी ट्रस्ट ने मंगलवार को बैठक की। गरीब व जरूरतमंद लोगों के लिए कार्ड निकाला। जिससे निःशुल्क प्राथमिक उपचार व जरूरतमंद लोगों को मात्र 10 में रुपए में प्रतिदिन दवा मिलेगीl संगठन की बैठक में और भी कई विषयों पर चर्चा की गईl

संगठन करती है असहाय लोगों की मदद
ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. उस्मान मसूद रमजी एवं सचिव शमशाद मलिक एडवोकेट ने बताया कि ख्वाजा गरीब नवाज फाउंडेशन चेरिटेबल ट्रस्ट पिछले काफी समय से देवबंद व आस पास के क्षेत्रों में गरीब व असहाय लोगों के लिए काम कर रही है। समय समय पर कैम्पों का आयोजन किया जाता है।

स्वास्थ्य को लेकर जताई गई चिंता
ट्रस्ट के सभी सदस्यों ने स्वास्थ्य को लेकर चिंता जताई। कहा कि इसके लिए कई चिकित्सकों से बात की गई है। जिन्होंने जनता के लिए निःशुल्क समय देने की बात कही हैl ट्रस्ट द्वारा निःशुल्क चिकित्सा कार्ड जारी किए गए, जिसमें गरीब लोगों को मुफ्त में प्राथमिक उपचार एवं सभी जरुरत मंद लोगों को मात्र 10 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से दवाई मिलेगी। बहुत ही कम चार्ज पर चिकित्सा जांच कराई जाएगीl बताया कि सभी वर्ग के लोगों को इसका लाभ मिलेगा। जिसके लिए नगर के कई चिकित्सकों ने ट्रस्ट द्वारा गांव गांव में चिकित्सा कैम्प लगाने का निर्णय लिया है l

बैठक में निःशुल्क उपचार करने का लिया गया निर्णय।
बैठक में निःशुल्क उपचार करने का लिया गया निर्णय।

पक्षियों के लिए पानी की व्यवस्था
ट्रस्ट द्वारा जल्द ही पक्षियों के लिए स्कूल कॉलेजों और सरकारी संस्थाओं आदि भवनों में पानी की व्यवस्था कराई जाएगी। जिससे भीषण गर्मी मे पक्षियों को राहत मिल सकेl साथ ही गरीब बस्तियों और गांव गांव में जाकर गांव के सम्मानित व्यक्तियों एवं ग्राम प्रधानों के सहयोग से जल्द ही स्कूल चलो के नाम से शिक्षा जागरूकता अभियान एवं साफ सफाई अभियान की शुरुआत की जाएगीl

इस दौरान ख्वाजा गरीब नवाज फाउंडेशन चैरिटी ट्रस्ट के सभी सदस्य डॉ. उस्मान मसूद रमजी, शमशाद मलिक एडवोकेट, कारी आमिर उस्मानी, मोहम्मद खालिद अंसारी, मोहम्मद दानिश, अजय त्यागी आदि मौजूद रहे l

खबरें और भी हैं...