पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आज लखनऊ पहुंचेंगे अब्दुल्ला आजम खान:सीतापुर जेल से रिहा होकर देर रात रामपुर पहुंचे, घर के बाहर उमड़ा समर्थकों का हुजूम

रामपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामपुर से सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान आज लखनऊ पहुंचेंगे। - Money Bhaskar
रामपुर से सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान आज लखनऊ पहुंचेंगे।

रामपुर से सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान आज लखनऊ पहुंचेंगे। सूत्रों से पता चला है कि वह लखनऊ में अखिलेश यादव से मिलने आ रहे हैं। उनकी यह रवानगी राजनैतिक परिदृश्य के चलते अहम मानी जा रही है। सीतापुर जेल से रिहा हाने के बाद अब्दुल्ला आजम काफिले के साथ देर रात रामपुर पहुंचे।

पुलिस ने काफिले को गांधी समाधि के पास रोक दिया। बाद में अब्दुल्ला के साथ सिर्फ एक दो गाड़ी जाने की इजाजत दी। वहीं, रविवार दोपहर वह घर से बाहर निकले। उन्होंने समर्थकों से कहा कि कोई वीडियो या मोबाइल रिकॉर्डिंग न करे, इससे आचार संहिता के चलते परेशानी हो सकती है।

अब्दुल्ला आजम खान शनिवार की शाम सीतापुर जेल से रिहा हो गए। जेल से बाहर उनके समर्थकों की भीड़ लगी थी, रात करीब 9 बजे वे बाहर आए।
अब्दुल्ला आजम खान शनिवार की शाम सीतापुर जेल से रिहा हो गए। जेल से बाहर उनके समर्थकों की भीड़ लगी थी, रात करीब 9 बजे वे बाहर आए।

23 महीने बाद हुए रिहा

अब्दुल्ला आजम खान शनिवार की शाम सीतापुर जेल से रिहा हो गए। जेल से बाहर उनके समर्थकों की भीड़ लगी थी, रात करीब 9 बजे वे बाहर आए। भीड़ में कुछ देर रुककर उन्होंने मीडिया से बात की। उन्होंने सरकार पर हमला बोला। कहा कि एक बीमार इंसान को फर्जी मुकदमे लगाकर जेल में 2 साल से बंद रखा हुआ है। उनकी जमानत में आज भी कोई साजिश या रुकावट ऐसी नहीं है, जो डाली नहीं जा रही हो।

आजम खान के समर्थक घर पर मिठाई लेकर पहुंच रहे हैं।
आजम खान के समर्थक घर पर मिठाई लेकर पहुंच रहे हैं।

10 मार्च को जुल्म खत्म होगा

न्यायालय से उम्मीद है। आज तक उन्हें और उनके परिवार को न्यायालय से इंसाफ मिला है और आगे भी मिलेगा। मीडिया से बात भी नहीं करने दीं जा रही है, देखिए यह है लोकतंत्र। आने वाली 10 मार्च को जुल्म खत्म होगा और अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना है। अब्दुल्ला ने कहा कि बेरोजगार नौजवान महंगाई से परेशान है। इसके बाद वह गाड़ी से रामपुर के लिए रवाना हो गए। गाड़ी में उनके साथ परिवार के कुछ लोग मौजूद थे।

अब्दुल्ला पर करीब 43 मुकदमे दर्ज हैं

बता दें, शनिवार को उनके सभी 43 मामलों में परवाने आने के बाद जेल प्रशासन ने दोपहर में ही उनकी रिहाई सुनिश्चित कर दी थी। अब्दुल्ला आजम खान 23 महीने से सीतापुर जिला कारागार में बंद थे। उनके खिलाफ लगभग 43 मुकदमे दर्ज हैं। बताया जा रहा है कि सभी 43 मुकदमों में अब्दुल्ला आजम को कोर्ट से जमानत मिल चुकी है।

सपा के कद्दावर नेता आजम खान और बेटे अब्दुल्ला आजम को 27 फरवरी 2020 से रामपुर जेल से सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था, जिसके बाद वह जिला कारागार में ही बंद थे।।
सपा के कद्दावर नेता आजम खान और बेटे अब्दुल्ला आजम को 27 फरवरी 2020 से रामपुर जेल से सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था, जिसके बाद वह जिला कारागार में ही बंद थे।।

फरवरी 2020 से पिता संग बंद थे बेटे अब्दुल्ला

सपा के कद्दावर नेता आजम खान और बेटे अब्दुल्ला आजम को 27 फरवरी 2020 से रामपुर जेल से सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था, जिसके बाद वह जिला कारागार में ही बंद थे।। जानकारों की माने तो अब्दुल्ला की जमानत तो पहले ही हो चुकी थी, लेकिन जमानतदार दाखिल न करने की वजह से समय से उनकी रिहाई नहीं हो सकी। विधानसभा चुनाव का बिगुल बजते ही अब्दुल्ला आजम के सभी जमानतदार दाखिल कर दिए गए। अब उनकी रिहाई भी कर दी गई।

जेल में ही रहेंगे अभी आजम खान

सपा सांसद और सपा के फायर ब्रांड नेता आजम खां अभी भी जेल में ही रहेंगे, क्योंकि दर्जनों मामलों में उनकी जमानत मंजूर होना बाकी है। बेटे की आज रिहाई के बाद आजम खां जेल में अकेले हो गए हैं। उनको बाहर आने में अभी काफी समय लग सकता है।

रामपुर में घर के बाहर समर्थकों की भीड़ लगी है।
रामपुर में घर के बाहर समर्थकों की भीड़ लगी है।

हाईकोर्ट ने रद्द किया था अब्दुल्ला का निर्वाचन

अब्दुल्ला आजम 2017 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर रामपुर की स्वार विधानसभा सीट से चुनाव लड़े थे और जीतकर विधायक भी बन गए थे लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी नवाब काजिम अली और सुना वेद मियां ने अब्दुल्ला आजम की उम्र को लेकर शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अब्दुल्लाह आजम का निर्वाचन रद्द कर दिया था। वह मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है।

खबरें और भी हैं...