पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अधिवक्ताओं के दो संगठनों ने एसडीएम-सीओ को सौंपा ज्ञापन:बिलासपुर में केमरी पुलिस पर की कार्रवाई की मांग, कहा- अधिवक्ता से मारपीट कर झूठे मुकदमे में फंसाया गया

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर के तहसील परिसर में बुधवार को अधिवक्ताओं के दो संगठनों ने एसडीएम व सीओ को अपना अपना ज्ञापन सौंपा। इस दौरान अधिवक्ता रोहताश मौर्य के साथ केमरी पुलिस द्वारा की गई अभद्रता, मारपीट व फर्जी मुकदमे में फंसाने को लेकर दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई।

मारपीट के मुकदमे को बताया झूठ
बार अध्यक्ष गुरपाल सिंह रंधावा के नेतृत्व में बार एसोसिएशन से जुड़े अधिवक्ता स्थानीय तहसील परिसर में उप जिलाधिकारी मयंक गोस्वामी से मिले। यहां उन्होंने डीएम को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा। इसमें बीती केमरी पुलिस द्वारा अधिवक्ता रोहताश मौर्य के साथ की गई अभद्रता, मारपीट व फर्जी मुकदमा दर्ज करने की निंदा करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्वाई की मांग की गई।

कोर्ट कार्य बहिष्कार करने की घोषणा की
वहीं लॉयर्स वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़े अधिवक्ताओं ने प्रेसिडेंट अरविंद कुमार गुप्ता की अगुवाई में एक बैठक आयोजित की। केमरी पुलिस द्वारा अधिवक्ता के साथ की गई अमानवीय व्यवहार की घोर निंदा की गई। सभी एकत्र होकर पुलिस क्षेत्राधिकारी अरूण कुमार सिंह से मिले और उन्हें पुलिस अधीक्षक को संबोधित ज्ञापन सौंपा। अधिवक्ताओं ने आगामी 28 मई तक न्यायालय बहिष्कार करने की घोषणा की है।

क्षेत्राधिकारी को अधिवक्ताओं ने सौंपा ज्ञापन।
क्षेत्राधिकारी को अधिवक्ताओं ने सौंपा ज्ञापन।

दो दिन पहले की है घटना
बता दें कि बीती 23 मई की रात थाना केमरी में हंगामा हो गया था। थाना पुलिस ने अधिवक्ता रोहताश मौर्य समेत 15 लोगों के खिलाफ केमरी थाने में पुलिस पर कातिलाना हमला, मारपीट व तोड़फोड समेत दस गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। अधिवक्ता इस मामले को फर्जी बताते हुए अधिवक्ता को झूठा फंसाने का आरोप लगा रहे है।

खबरें और भी हैं...