पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रायबरेली के ऊंचाहार में मौसम में आया बदलाव:पाला और शीतलहर से किसानों को सता रहा फसलों के नुकसान होने का डर

ऊँचाहार, रायबरेली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रायबरेली के ऊंचाहार में अचानक मौसम के बदलाव से तापमान गिर रहा है। शीतलहर तथा पाले के असर से दलहनी फसलों के साथ-साथ तिलहनी फसलों को भी काफी नुकसान की आशंका है।

पाले से फसलों को बचाने के लिए किसान दवाओं का छिड़काव कर रहे हैं। मटर, टमाटर तथा आलू की फसल पर तापमान तथा पाले का सीधा असर पड़ रहा है। कोहरे के साथ पाला गिरने से आलू और टमाटर के पौधों में झुलसा रोग प्रभावी हो रहा है। इसकी रोकथाम किसानों को पहले ही करनी पड़ती है।

मौसम खराब होने से पहले ही किसान फंगीसाइड दवाओं का छिड़काव कर फसलों को सुरक्षित कर सकते हैं। पूरे त्रिभुवन गांव के किसान विजयकांत, धर्मेंद्र गंधपी गांव के किसान बुधलाल मौर्य, जगन्नाथ, भगौती प्रसाद, गेंदालाल, होरी लाल तथा रामसांडा गांव के किसान अमरेश मौर्य, रामनारायन, दिलीप, दीपू, महेंद्र कुमार आदि ने बताया कि खराब मौसम के कारण फसलों को बचाने के लिए सप्ताह में एक दिन दवाओं का छिड़काव करना पड़ रहा है।

बताया कि सप्ताह भर पहले मौसम में आद्रता की कमी थी जिससे दिन में गर्मी व सुबह शाम ठंड का मौसम रहता था। अचानक चार दिनों से कोहरा पड़ने व बर्फीली हवाओं के चलने से मौसम में परिवर्तन हो गया है। ठंड का असर व कोहरे के चलते तापमान लगातार गिर रहा है। जिससे दलहनी व तिलहनी फसलों को काफी नुकसान हो सकता है। तिलहनी फसलों में फूल का समय चल रहा है। फसलों मे दवाओं का छिड़काव ना होने से रोग ग्रस्त होकर फलों में कमी आएगी।

खबरें और भी हैं...