पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रायबरेली...एनटीपीसी के पूर्व CMO पाए गए दोषी:रिश्ववत लेकर की थी मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा, अस्पताल में दिलाया था ठेका

रायबरेली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीबीआई की प्रारंभिक जांच में पाया गया है कि ऊंचाहार में तैनाती के दौरान सीएमओ ने एक व्यक्ति से रिश्वत लेकर मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा की थी और यह रिश्वत अस्पताल में एक ठेका दिलाने के लिए ली गई थी। - Money Bhaskar
सीबीआई की प्रारंभिक जांच में पाया गया है कि ऊंचाहार में तैनाती के दौरान सीएमओ ने एक व्यक्ति से रिश्वत लेकर मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा की थी और यह रिश्वत अस्पताल में एक ठेका दिलाने के लिए ली गई थी।

रायबरेली में एनटीपीसी ऊंचाहार में तैनात रहे पूर्व मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र मोहन को सीबीआई ने रिश्वत लेने का दोषी पाया है। उन पर भ्रष्टाचार के गंभीर मामलों के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। सीबीआई की प्रारंभिक जांच में पाया गया है कि ऊंचाहार में तैनाती के दौरान सीएमओ ने एक व्यक्ति से रिश्वत लेकर मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा की थी और यह रिश्वत अस्पताल में एक ठेका दिलाने के लिए ली गई थी।

इस यात्रा में सीएमओ के साथ उनकी पत्नी विभा सिंह भी थीं और पूरा भुगतान एक टेंट संचालक के खाते से किया गया था। इसके साथ ही एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव से भी उन्होंने कई लाख की वसूली की और उसे अस्पताल में दवा आपूर्ति का काम दिलाया। उनपर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सीबीआई कर रही थी जांच
बता दें कि इसी वर्ष अगस्त माह में सीबीआई की एक टीम ने ऊंचाहार एनटीपीसी में छापा मारकर जांच शुरू की थी और सभी दस्तावेजों को अपने कब्जे में लिया था। जांच में यह तथ्य सामने आया कि रायबरेली के टेंट संचालक अनूप कुमार ने सीएमओ को क़रीब डेढ़ लाख रुपये उनकी मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा के लिए भुगतान किया था, इसके साथ ही एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव शमशेर सिंह ने भी उन्हें रिश्वत के तौर पर कई लाख रुपए दिए थे।

इसके अलावा अपनी तैनाती के दौरान सीएमओ ने अस्पताल में पैरा मेडिकल स्टाफ़ की नियुक्ति भी मनमाने ढंग से की थी।इन सबको लेकर एनटीपीसी ने अपनी आंतरिक जांच में उन्हें दोषी पाया था और सेवानिवृत्ति के पहले ही बर्खास्त कर दिया थ,साथ ही पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी। बर्खास्त सीएमओ डॉ नरेंद्र मोहन 2019 से 2020 तक एनटीपीसी में मुख्य चिकित्सा अधिकारी के पद पर तैनात रहे हैं।

खबरें और भी हैं...