पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रायबरेली में डबल मर्डर केस का खुलासा:भांजे ने किया मामी और बहन का कत्ल, बोला- रुपयों की जरूरत थी, मांगे तो दिए नहीं

रायबरेली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसपी श्लोक कुमार ने घटना का खुलासा कर चार आरोपियों को जेल भेज दिया है। - Money Bhaskar
एसपी श्लोक कुमार ने घटना का खुलासा कर चार आरोपियों को जेल भेज दिया है।

रायबरेली में तीन दिन पहले हुए डबल मर्डर केस का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। मृतका के भांजे ने पैसों की लालच में दोस्तों के संग मिलकर खून किया था। पुलिस ने कैश और लूट के सामान के साथ चारों आरोपियो को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है। एसपी श्लोक कुमार ने बताया कि लालगंज कोतवाली के आनापुर गांव निवासी अंकित सिंह मृतका राधा सिंह का भांजा है। आरोपी अंकित ने पुलिस को बताया कि मामी राधा सिंह के पास जेवरात और नगदी रखी हुई थी। उसे पैसों की जरूरत थी। मामी से मांगा तो उन्होंने देने से मना कर दिया।

दोस्तों के साथ मिलकर की हत्या

आरोपी ने अपने गांव के राज यादव, अंजनी द्विवेदी और मोहम्मद रईस के साथ प्लान किया कि जिस दिन मामी का लड़का नही रहेगा उस दिन मामी व उसकी बहन की बेटी की हत्या कर जेवरात लूट लेंगे। 30 अक्टूबर को बाइक से 6 बजे हम लोग मामी के गांव पहुंचे।

जेवरात और 44 हजार कैश लेकर भागे

पहले चाय पी, मामी से बात कर रहे थे और जब शेजल घर के अंदर चली गई तो घर के बाहर वाले कमरे में ले जाकर मामी की गला रेतकर हत्या कर दी। शेजल हमें पहचानती थी इसलिए घर के अंदर जाकर चाकू से गला काटकर हम लोगों ने उसकी भी हत्या कर दिया। उसके बाद घर में रखे जेवरात और 44 हजार कैश लेकर भाग निकले थे।

क्या है मामला?

30 अक्टूबर को डीह थाना क्षेत्र के कचनावा गांव के एक घर में राधा 50 और उसकी भांजी श्रेजल 17 की अर्द्ध नग्न अवस्था में लाश मिली थी। स्थानीय लोगों के अनुसार राधा का पति सूर्यभान सिंह करीब 10-12 साल पहले घर से लापता हो गया था, तब से आजतक उसका कोई पता नही चल सका। बेटा मां के साथ रहता जरूर था वो पिकअप गाड़ी चलाता है।

घटना वाले दिन वो गाड़ी लेकर मध्यप्रदेश के शिवपुरी चला गया था। इसकी पत्नी गाजीपुर में सिपाही है वो वहीं रहती है। राधा अपनी बहन की बेटी शेजल के साथ शनिवार को घर मे अकेली थी। रविवार सुबह राधा और उनकी बहन की बेटी शेजल का शव लोगों ने देखा और पुलिस को जानकारी दी। दोनों के शवों पर किसी धारदार हथियार के निशान थे और कमरे में चारों तरफ़ खून बिखरा हुआ था।