पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59721.31-0.63 %
  • NIFTY17849.35-0.5 %
  • GOLD(MCX 10 GM)480700.26 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633193.1 %

रायबरेली...हवा में नशा उन्मूलन केंद्र का आदेश:14 महीने बाद भी नहीं शुरू हुआ काम, 50 बेड का अस्पताल खोलने का आया था फरमान

रायबरेली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
समाज कल्याण अधिकारी ने हॉस्पिटल के लिए भवन की डिमांड की थी, लेकिन अब तक  व्यवस्था नहीं हो सकी है। - Money Bhaskar
समाज कल्याण अधिकारी ने हॉस्पिटल के लिए भवन की डिमांड की थी, लेकिन अब तक व्यवस्था नहीं हो सकी है।

रायबरेली को नशामुक्त करने का सरकार का सपना साकार नहीं हो पा रहा है। 14 महीने पहले नशा मुक्ति कार्यक्रम के तहत जिले में 50 बेड का अस्पताल खोलने का आया आदेश हवा में है। समाज कल्याण विभाग और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की सुस्ती से अब तक नशा उन्मूलन केंद्र का संचालन नहीं हो पाया है। शासन से एक साल के खर्च के लिए 2.67 करोड़ रुपये भी आवंटित हो गए थे, लेकिन अस्पताल के लिए भवन का इंतजाम नहीं हो पाया है।

दरअसल, स्वास्थ्य विभाग की ओर से तंबाकू निषेध कार्यक्रम संचालित होने के साथ समाज कल्याण विभाग की ओर से 15 अगस्त 2020 में नशा मुक्त अभियान शुरू कराया गया है। नशा मुक्ति कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार ने रायबरेली जिले में 50 बेड का अस्पताल संचालित कराने के लिए सितंबर 2020 को आदेश आ गया था। एम्स दिल्ली के राष्ट्रीय ड्रग डिफेंस ट्रीटमेंट सेंटर की देखरेख हॉस्पिटल में काउंसलिंग के बाद लोगों को भर्ती करके नशा से मुक्त करने के लिए इलाज करने की मंशा थी।

भवन की नहीं हो पाई व्यवस्था

शासन से पत्र आने के बाद समाज कल्याण अधिकारी ने सीएमओ से हॉस्पिटल के लिए भवन की डिमांड की थी, लेकिन अब तक भवन की व्यवस्था नहीं हो सकी है। एक साल बीतने के बाद दोनों विभाग पूरी तरह से सुस्त हो गए हैं। अस्पताल में नशा मुक्ति के इलाज के लिए एक डॉक्टर के साथ ही एक-एक काउंसिलर व डाटा मैनेजर की भर्ती होनी थी। चार नर्स भी अस्पताल में तैनात होने थे, लेकिन यह काम भी अब तक नहीं हो सका है।

अधिकारी बोले- प्रक्रिया पूरी की जा रही है

इसके अलावा दवा, स्टेशनरी, इंफ्रास्ट्रक्चर आदि के लिए अलग से बजट मिलने वाला था। इस मामले में जिला समाज कल्याण अधिकारी डॉ. वैभव त्रिपाठी से बात की गई तो उनका कहना है कि रायबरेली जिले में नशामुक्ति के लिए लोगों के इलाज के लिए 50 बेड का अस्पताल खोले जाने के लिए सीएमओ से भवन की मांग की गई थी। अब तक भवन की व्यवस्था नहीं हो सकी है। विभाग स्तर से प्रक्रिया पूरी की जा रही है।

सीएमओ डॉ. वीरेंद्र सिंह ने बताया कि तंबाकू निषेध कार्यक्रम विभाग की ओर से संचालित है। समाज कल्याण विभाग से चल रहे नशामुक्ति अभियान के संबंधित आए दिशा-निर्देशों का क्रियान्वयन कराया जाएगा। पत्र काफी पुराना हो गया है। मामले को दिखवाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...