पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57260.580.27 %
  • NIFTY17053.950.16 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47950-0.42 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62854-0.82 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Naini Double Murder Case : Saloni Devi Came Under Suspicion Due To The Statement Of Innocent Anshika, The Police Reached The Lovers After Searching The Call Details And Then The Case Opened

नातिन बोली- दादी कहती हैं कि मां गंदी है:प्रयागराज में कॉल डिटेल के जरिए पुलिस पहुंची कातिलों तक, मासूम ने खोले कई राज

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर से 15 किलोमीटर दूर हुए इस मर्डर केस में डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी भी पहुंचे और जांच पड़ताल की। - Money Bhaskar
शहर से 15 किलोमीटर दूर हुए इस मर्डर केस में डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी भी पहुंचे और जांच पड़ताल की।

नैनी औद्योगिक थानाक्षेत्र के चक पुरे मिया खुर्द गांव में 3 दिन पहले हुए दोहरे हत्याकांड का पुलिस ने शनिवार को खुलासा कर दिया। बजरंग बहादुर की नातिन के जरिए ही पुलिस को हत्यारों का सुराग लगा। जब अंशिका से महिला आरक्षी ने चॉकलेट और टॉफी बिस्किट देकर पूछताछ की तो उसने कई चौंकाने वाले राज सामने आए। अंशिका ने बताया कि बाबा-दादी कहती हैं कि मां गंदी है। वो तुम्हें प्यार नहीं करती है। उसके पास जाओगी तो वो मारेगी।

अंशिका ने ही पुलिस को दिया क्लू
सूत्रों के मुताबिक अंशिका ने ही पुलिस को यह क्लू दिया था कि बाबा-दादी और मां के बीच अक्सर लड़ाई होती है। इसी बात को लेकर और रिपोर्ट में नामजद किए गए। आरोपियों से पूछताछ के बाद पुलिस इस नतीजे पर पहुंची कि सलोनी देवी का इस हत्याकांड से जुड़ाव हो सकता है।

मौत के बाद परिजनों का रोकर हुआ बुरा हाल
मौत के बाद परिजनों का रोकर हुआ बुरा हाल

कॉल डिटेल से पुलिस पहुंची सलोनी के आशिकों तक
पुलिस ने सलोनी की कॉल डटेल निकलवाने के बाद जब जांच शुरू की तो उसके नंबर से एक नंबर पर काफी देर-देर तक बात होती पाई गई। जांच की गई तो वह नंबर उसी गांव के शोभनाथ बिंद का पाया गया। पुलिस ने शोभनाथ और सलोनी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पहले तो दोनों इधर-उधर की बात करते रहे पर जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की।

तो दोनों कमजोर पड़ गए। बाद में पता चला कि हत्या में एक और अभियुक्त अशोक कुमार भी शामिल है। पुलिस ने इस मामले का खुलासा कर दिया है। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

सलोनी ने प्रेमी के साथ्नी मिलकर अपने सास-ननद की बेरहमी से हत्या कर दी थी।
सलोनी ने प्रेमी के साथ्नी मिलकर अपने सास-ननद की बेरहमी से हत्या कर दी थी।

सलोनी ने कहा-मैंने अपनी बेटी के लिए किया, धन-दौलत के लिए नहीं
पुलिस ने जब बजरंग बहादुर की बहू सलोनी से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसने अपनी बेटी के भविष्य के लिए यह सब किया। सास व ससुर उसकी बेटी को उसे नहीं दे रहे थे। उसकी देखभाल भी अच्छे से नहीं करते थे। पति की मौत के बाद वह ससुर का घर छोड़कर चली गई तो उसे बेटी से मिलने भी नहीं देते थे। उसने धन-दौलत के लिए नहीं बेटी की भविष्य के लिए इस घटना को अंजाम दिया है।

पुलिस की गिरफ्त में आई सलोनी व बरामद सामान।
पुलिस की गिरफ्त में आई सलोनी व बरामद सामान।

बाल सुधार गृह में पहुंची अंशिका
अंशिका को पुलिस ने बाल सुधार गृह में भेज दिया है। अब सरकार उसकी देखभाल करेगी। दादी-बुआ की मौत होने और बाबा के गंभीर रूप से घायल होने के कारण उसकी देखभाल करने वाला कोई नहीं रह गया है। मां सलोनी देवी ने दूसरी शादी कर ली है। लिहाला उसे बाल गृह भेज दिया गया है। अब वहीं, उसका लालन पालन होगा।

11 प्वाइंट्स में समझिए कैसे खुला मामला

  1. हत्या करने वालों का अंशिका को छोड़ देना, सीढ़ी के रास्ते घर में घुसना, शरीर के आभूषण को हाथ भी न लगाने से पुलिस को किसी करीबी के हत्याकांड में शामिल होने पर शक हुआ।
  2. पुलिस ने जांच शुरू की। कॉल डिटेल खुगाला तो सलोनी के नंबर पर एक नंबर से काफी देर तक बात हुई।
  3. घटना के दिन सलोनी के नंबर का घटनास्थल के पास लोकेशन मिला था।
  4. अंशिका ने कहा था बाबा-दादी कहते हैं मां गंदी है।
  5. मां बाबा-दादी और बुआ से लड़ती है।
  6. अंशिका को खरोच तक न लगना सबसे बड़ा शक का कारण था।
  7. पुलिस ने जब आसपास के लोगों को पूछताछ की तो उन्होंने भी बताया कि अंशिका को लेकर बहु और सास-ससुर के बीच विवाद है।
  8. पुलिस को शक हुआ कि अगर बदमाश पूरे परिवार को मारने के इरादे से आए थे तो अंशिका को कैसे छोड़ दिया।
  9. फिंगर प्रिंट के मिलान से यह साफ हो गया था कि घर में वारदात के दिन तीन लोग थे।
  10. घर में घुसने के तीन दरवाजे होने के बाद भी सीढ़ी के रास्ते घुसने से एक बात साफ थी कि मारने वाले इस घर के बारे में अच्छे से परिचित थे।
  11. उन्हें मालूम था कि सीढ़ी के रास्ते घुसकर घर के अंदर तक पहुंचा जा सकता था।
खबरें और भी हैं...