पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रयागराज में डबल मर्डर:पत्नी की बेवफाई से आहत पति ने लगाई फांसी; भीड़ ने प्रेमी की पीटकर हत्या की

प्रयागराज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करछना में संतोष की गला दबाकर हत्या कर दी गई। (मृतक की फाइल फोटो)

प्रयागराज से सनसनीखेज खबर है। सोमवार को पत्नी की बेवफाई से आहत होकर पति ने फांसी लगा ली। इस घटना से गुस्साए घरवालों और ग्रामीणों ने प्रेमी को पकड़कर जमकर पीट दिया। जानकारी पर पुलिस पहुंची। उसको लेकर अस्पताल पहुंची। यहां पर डॉक्टरों ने प्रेमी को मृत घोषित कर दिया। ये घटना करछना क्षेत्र के धरी गांव की है। SP अजय कुमार ने बताया कि जानकारी पुलिस फोर्स पहुंची है। महिला को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

गांव में दो लोगों की हत्या के बाद पसरा मातम। ग्रामीणों ने बताया कि संतोष और राम बाबू के बीच गहरी दोस्ती थी।
गांव में दो लोगों की हत्या के बाद पसरा मातम। ग्रामीणों ने बताया कि संतोष और राम बाबू के बीच गहरी दोस्ती थी।

सुबह तड़के आता था मिलने
संतोष की पत्नी गेंदा देवी का गांव के रामबाबू भारतीया से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। वो हर रोज रात में उससे मिलने आता था। सोमवार को सुबह 3 बजे मिलने आया था। वह गेंदा देवी के साथ था तभी संतोष ने देख लिया। इससे आहत होकर उसने फांसी लगा ली। संतोष को फांसी पर झूलते देख बच्चों ने शोर मचाया तो घरवाले पहुंच गए। ग्रामीण भी आ गए। गुस्साए लोगों ने गेंदा देवी और राम बाबू को पकड़ लिया। गुस्साए लोगों ने राम बाबू को लाठी और डंडों से पीट दिया। सिर में गहरी चोट के कारण वह जमीन पर बेहोश होकर गिर पड़ा। पुलिस ने पहुंचकर उसे अस्पताल भेजा पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

दो लोगों की हत्या होने के बाद गांव में घर के बाहर लगी भीड़। पुलिस भी तैनात कर दी गई है।
दो लोगों की हत्या होने के बाद गांव में घर के बाहर लगी भीड़। पुलिस भी तैनात कर दी गई है।

दोस्ती कर विश्वास जीता
राम बाबू (41) ने पहले संतोष (40) से दोस्ती की और उसका विश्वास जीता। दोनों मजदूरी करके अपना भरण पोषण करते थे। दोनों ही शराब पीने के आदी थे। दोनों के बीच दोस्ती बढ़ती गई और बाद में राम बाबू संतोष के ही रहने लगा। राम बाबू की निगाह संतोष की बीवी गेंदा देवी पर थी। उसने धीरे-धीरे अपने व्यवहार से गेंदा देवी का दिल जीत लिया।

दोनों में प्यार हो गया । पत्नी और रामबाबू के बीच प्रेम प्रसंग का जब संतोष को पता चला तो वह इस कदर आहत हुआ कि खुद को ही मिटाने की ठान ली।शनिवार को दोनों के बीच मारपीट भी हुई थी। इसके बाद गेंदा देवी अपने प्रेमी राम बाबू के साथ मायके चली गई थी। रविवार को जब गेंदा देवी अपने पति के घर आई तो दोनों में मारपीट हुई। इसके बाद दोनों सोने चले गए। रात में 3 बजे जब गेंदा देवी सोकर उठी तो देखा कि पति फांसी के फंदे पर झूल रहा है। वह राम बाबू की सहायता से पति के शव को नीचे उतारती है। इसी दौरान गांव वालों को संतोष के मरने की खबर पता चल जाती है। लोगों ने समझा कि गेंदा देवी और उसके प्रेमी राम बाबू ने मिलकर संतोष का गला दबा दिया है और उसकी हत्या कर दी है। इससे आक्रोशित ग्रामीणों ने राम बाबु पर हमला कर दिया। वह मरणासन्न हो गया तब जाकर उसे छोड़ा। बाद में अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फंसी के फंदे पर झूलने से संतोष की मौत होने की बात सामने आई है।

खबरें और भी हैं...