पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सत्संग से मनुष्य धर्म पथ पर होता है अग्रसर:लालगंज में आयोजित भागवत कथा में व्यास ने कहा-भगवान के प्रति निर्मलता के साथ जीवन करें समर्पित

लालगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रतापगढ़ के लालगंज नगर पंचायत के मनीपुर में श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का आयोजन हो रहा है। कथा के चौथे दिन सोमवार को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। कथाव्यास राजगुरू पं. सर्वेशपति तिवारी ने कहा कि भगवान की कथा का श्रवण का साधन सत्संग की पवित्रता में है। कहा कि, सत्संग से मनुष्य को धर्म पथ पर अग्रसर बने रहने का मार्ग प्रशस्त हुआ करता है।

कथाव्यास पं. सर्वेशपति तिवारी ने कहा कि, भागवत कथा का सार यही है कि जीवन को सुचिता तथा भगवान के प्रति निर्मलता के साथ समर्पित करना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण ने जगत के कल्याण के लिए अधर्म का विध्वंस कराया। कहा कि भगवान श्रीकृष्ण की मर्यादा नीति तथा सत्य का साक्षात दर्पण है।

कथाव्यास ने श्रद्धालुओं से कहा कि पुण्य को अर्जित करने और पाप से छुटकारा पाने के लिए जीवन की दैनिक व्यस्तताओं के बीच भी भगवान का सदस्मरण करते रहना चाहिए। परमात्मा की प्राप्ति का एक मात्र साधन भगवान के प्रति निर्मल मन से समर्पित होना है। कथा के दौरान राजगुरू के आध्यात्मिक भजनों को संगीतदल ने धुनि देते हुए श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया।

कथा के संयोजक समाजसेवी पं. गिरीश कुमार मिश्र एवं कमला देवी ने राजगुरू का वैदिक अभिषेक किया। सह संयोजक पं. माताफेर मिश्र ने श्रद्धालुुओं का मांगलिक टीकाकरण किया। अधिवक्ता करूणाशंकर मिश्र एवं हरिशंकर मिश्र, अशोक तथा अनिल कथा विश्राम बेला में महाप्रसाद वितरण के प्रबंधन में सक्रिय दिखे।

कथा श्रवण के दौरान डा. राजकुमार पाण्डेय, विशालमूर्ति मिश्र, डा. राजेन्द्र मिश्र, डा. ज्ञानेन्द्र नाथ त्रिपाठी, प्रो. राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल, अनिल त्रिपाठी महेश, भानु प्रताप सिंह, जमुना तिवारी, देवी प्रसाद मिश्र, केशवराम ओझा, छोटे लाल सरोज, मुन्ना तिवारी, विनोद मिश्र, दिवाकर नाथ शुक्ल, सालिक तिवारी आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...