पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीलीभीत में प्रदर्शन की योजना बना रहे थे युवा:आसाम चौराहे पर जमघट लगाना हुआ था शुरू, पुलिस ने पहुंचते ही भगाया

पीलीभीत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों में अग्नि वीरों के प्रदर्शन के बाद अब पीलीभीत में भी युवाओं ने प्रदर्शन कर अपनी मांग सरकार तक पहुंचाने की कवायद शुरू कर दी है। इसी क्रम में 20 जून को शहर के आसाम चौराहे पर युवाओं को एकत्र कर प्रदर्शन करने की तैयारी थी। इस पूरे मामले में सुबह से ही पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड पर नजर आ रहा था। जैसे ही युवाओं का शहर के आसाम चौराहे पर जमघट लगाना शुरू हुआ तत्काल प्रभाव से पुलिस ने युवाओं को खदेड़ दिया।

सोशल मीडिया पर अग्निपथ कानून को लेकर विरोध जताने के लिए सुनगढ़ी थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले आसाम चौराहे पर युवाओं को एकत्र करने की अपील की गई थी। सोमवार को सुबह से ही शहर के आसाम चौराहे पर सीओ सिटी सुनील दत्त शहर कोतवाल हरीश वर्धन सिंह सुनगढ़ी थाना अध्यक्ष बलवीर सिंह ने डेरा जमा रखा था। इसी बीच चौराहे पर दर्जनों की तादाद में युवा खड़े नजर आए। जैसे ही पुलिस को प्रदर्शन करने के लिए युवाओं के भीड़ जुटने की सूचना मिली। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भगा दिया।

पुलिस पहले से ही मौजूद थी।
पुलिस पहले से ही मौजूद थी।

भर्ती प्रक्रिया रद्द करने की मांग
युवाओं का कहना है कि केंद्र सरकार ने 14 जून को थल सेना, वायु सेना और नौसेना में युवाओं के बड़ी संख्या में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू की है। इसके तहत नौजवानों को 4 साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देनी होगी। हम सब युवाओं की मांग है कि अग्निपथ योजना के तहत भर्ती प्रक्रिया रद्द हो और पुरानी भर्ती प्रक्रिया वापस लागू हो। अग्निपथ योजना का नया कानून लाकर युवाओं के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जब तक यह सेना भर्ती की नई स्कीम प्रक्रिया रद्द नहीं होगी तब तक युवाओं का आक्रोश बरकरार रहेगा।

धीरे-धीरे इक्ठा हो रहे थे युवा पुलिस ने भगाया।
धीरे-धीरे इक्ठा हो रहे थे युवा पुलिस ने भगाया।

अग्निवीरों के मुद्दे पर ट्वीट के जरिए हमलावर है वरुण
पीलीभीत बहेड़ी लोकसभा से बीजेपी सांसद वरुण गांधी अग्नि वीरों के मुद्दे पर लगातार ट्वीट के जरिए हमलावर नजर आ रहे हैं। वरुण गांधी ने इस पूरे मामले में देश के रक्षा मंत्री को पत्र लिखकर तमाम तथ्यों को सामने रख सरकार का पक्ष स्पष्ट करने की मांग भी की थी।