पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुजफ्फरनगर..अपहरण कर युवक की हत्या में उम्रकैद:विशेष एससी-एसटी एक्ट कोर्ट ने सुनाई सजा, दोषी पर 40 हजार का लगाया जुर्माना

मुजफ्फरनगर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो। - Money Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो।

मुजफ्फरनगर की एक अदालत ने युवक का अपहरण कर हत्या करने के मामले में सुनवाई की। कोर्ट ने आरोपी को दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई। साथ ही 40 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया। जबकि दो आरोपियों को सबूतों के अभाव में दोषमुक्त कर दिया।

विशेष लोक अभियोजक यशपाल सिंह, पैनल लायर सहदेव सिंह तथा वादी के निजी अधिवक्ता शमा परवीन खान ने बताया कि

थाना मंसूरपुर क्षेत्र के गांव खानुपुर निवासी सतीश ने 12 अप्रैल, 2017 को मुकदमा दर्ज कराया था। उसने कहा था कि 10 अप्रैल को गांव के ही काजु उर्फ राजकुमार ने उसके बेटे अरुण का अपहरण कर लिया। अरुण के पास गांव के एक युवक की बहन का आना-जाना था। जिस पर उसने उसके दोस्त काजु के साथ मिलकर अरुण का अपहरण किया। फिर उसकी हत्या कर शव गंग नहर में बहा दिया।

अरुण का शव 15 अप्रैल को गंगनहर सरधना से बरामद हुआ था। पुलिस ने काजु उर्फ राजकुमार, कपिल, सोनू और किशन को गिरफ्तार कर लिया था। विशेष लोक अभियोजक यशपाल सिंह ने बताया कि घटना के मुकदमे की सुनवाई विशेष एससी-एसटी कोर्ट के जज जमशेद अली ने की। अभियोजन ने घटना साबित करने के लिए 11 गवाह पेश किए।

बताया कि कोर्ट ने दोनों पक्ष की सुनवाई कर आरोपी काजु उर्फ राजकुमार को अरुण का अपहरण कर हत्या का दोषी ठहराया। कोर्ट ने दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाई। कपिल तथा सोनू को साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त कर दिया गया। जबकि आरोपी किशन के जुवेनाइल होने के चलते उस पर सुनवाई जुवेनाइल जस्टिस कोर्ट में चल रही है।

खबरें और भी हैं...