पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजबीर ने दलित महिलाओं से वसूले थे 6-6 हजार:मुजफ्फरनगर के पावटी पहुंची राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग सदस्य अंजु बाला से दलित महिला ने की शिकायत

मुजफ्फरनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग सदस्य डा. अंजू बाला। - Money Bhaskar
राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग सदस्य डा. अंजू बाला।

मुजफ्फरनगर के गांव पावटी खुर्द में आपत्तिजनक जातिगत टिप्पणी किये जाने के आरोप में गिरफ्तार किये गए पूर्व प्रधान राजबीर सिंह त्यागी पर दलित महिला ने गंभीर आरोप लगाए। सोमवार को गांव पावटी खुर्द पहुंची राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग की सदस्य डा. अंजु बाला ने 9 मई की घटना की जानकारी लेनी चाही तो आरोपित के विरुद्ध एक दलित महिला का गुस्सा फूट पड़ा। महिला ने आयोग सदस्य से शिकायत की कि 7 वर्ष पहले वह राजबीर के खेत में घास काटने चली गई थी। जिसके एवज में पूर्व प्रधान राजबीर ने उस सहित 6 महिलाओं से 6-6 हजार रुपये की वसूली की थी। आयोग सदस्य ने इस मामले में लिखित शिकायत मांगते हुए कार्रवाई का अशवासन दिया।

गांव पावटी खुर्द में दलित महिला की शिकायत सुनती राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग सदस्य डा. अंजू बाला।
गांव पावटी खुर्द में दलित महिला की शिकायत सुनती राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग सदस्य डा. अंजू बाला।

दलित विरोधी मानसिकता हुई थी उजागर

9 मई को चरथावल थाना क्षेत्र के गांव पावटी खुर्द में मुनादी पिटवाकर आपत्तिजनक दलित विरोधी टिप्पणी की गई थी। आरोप है कि गांव के पूर्व प्रधान एवं कुख्यात विक्की त्यागी के पिता राजबीर त्यागी मुनादी पिटवाकर ऐलान कराया था कि कोई भी दलित उनके खेत, ट़्यूबवेल तथा सामाधि पर न चढ़े। ऐसा करने वालों को 50 जूते तथा 5 हजार रुपये का जुर्माना अदा करने की चेतावनी दी गई थी। घटना के बाद पुलिस ने राजबीर तथा मुनादी पीटने वाले कुंवार पाल के विरुद्ध एससी-एसटी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया था। दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। आपत्तिजनक जातिगत टिप्पणी कराए जाने से पूर्व प्रधान की दलित विरोधी मानसिकता उजागर हुई थी।

आपत्तिजनक जातिगत टिप्पणी किये जाने के बाद हुई थी पूर्व प्रधान राजबीर की गिरफ्तारी।
आपत्तिजनक जातिगत टिप्पणी किये जाने के बाद हुई थी पूर्व प्रधान राजबीर की गिरफ्तारी।

विधायक संग पहुंची आयोग सदस्य अंजु बाला

उत्तराखंड के विधायक देशराज की शिकायत पर गंभीरता से संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग सदस्य डा. अंजु बाला मामले की जांच के लिए जिले में पहुंची। पीडब्लूडी डाक बंगले पर रुकने के बाद वह शिकायतकर्ता उत्तराखंड विधायक देशराज के साथ गांव पावटी खुर्द के लिए रवाना हो गई। गांव में एडीएम प्रशासन नरेन्द्र बहादुर सिंह एवं एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय संग उन्होंने दलित महिलाओं तथा पुरुषों से घटना के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कार्रवाई के लिए आश्वस्त करते हुए कहा कि पुलिस तथा प्रशासन ने इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपितों की गिरफ्तारी की। उन्होंने कहा कि यदि मुकदमे में अन्य धारा बनती है तो आरोपितों के विरुद्ध उनकी वृद्धि कराई जाएगी।

अवैध उगाही पर दर्ज हो सकता है मुकदमा

गांव पावटी खुर्द पहुंची राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग सदस्य डा. अंजु बाला से गांव की महिला मंशा ने पूर्व राजबीर त्यागी की शिकायत की। आरोप लगाया कि 7 वर्ष पहले वह तथा 5 अन्य दलित महिलाएं घास काटने के लिए गई थी। वहां पहुंचे पूर्व प्रधान राजबीर त्यागी ने उनसे उनके खेत में प्रवेश करने के एवज में 6-6 हजार रुपये का दंड लिया था। सभी महिलाओं को 6-6 हजार रुपये देने के लिए मजबूर होना पड़ा था। इस मामले में आयोग सदस्य डा. अंजु बाला ने पीड़ित महिलाओं को लिखित में शिकायत देने के लिए कहते हुए आरोपित के विरुद्ध उचित कानूनी कार्रवाई कराए जाने के लिए आश्वस्त किया।

18 मई को राजबीर की जमानत पर सुनवाई

आपत्तिजनक दलित विरोधी टिप्पणी कराए जाने पर थाना चरथावल पुलिस ने गांव पावटी खुर्द के पूर्व प्रधान राजबीर त्यागी व मुनादी पीटने वाले कुंवरपाल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी की थी। दोनों को 10 मई काे विशेष एससी-एसटी कोर्ट में पेश किया गया था। दोनों के अधिवक्ताओं की और से जमानत प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया था। लेकिन कोर्ट ने सुनवाई की तिथि 18 मई निर्धारित करते हुए दोनों आरोपितों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था। कोर्ट 18 मई को दोनों की जमानत अर्जी पर सुनवाई करेगा।

खबरें और भी हैं...